नई दिल्ली : टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी युवराज सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी है. युवराज ने 19 साल के इंटरनेशनल करियर में कई ऐतिहासिक पारियां खेलीं और भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई. युवी संन्यास की घोषणा करने के दौरान भावुक हो गए. उन्होंने कहा कि यह उनके लिए रोलर कोस्टर राइड की तरह रहा. युवी ने कहा कि 22 यार्ड्स में करीब 25 साल बिताने के बाद और इंटरनेशनल क्रिकेट में करीब 19 साल बिताने के बाद मैंने मूव ऑन करने का फैसला किया. युवी ने यह भी बताया कि उन्होंने संन्यास लेने के बारे में किससे राय ली.

युवराज ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ”22 यार्ड के इर्द-गिर्द 25 साल बाद और इंटरनेशनल क्रिकेट में करीब 19 साल बिताने के बाद मैंने संन्यास का फैसला लिया. इस खेल ने मुझे लड़ना, गिरना, फिर से उठना और आगे बढ़ना सिखाया.” युवराज संन्यास की घोषणा करते वक्त भावुक हो गए हैं. उन्होंने अपने करियर के कई दिलचस्प और भावुक पलों का जिक्र किया. युवी ने कैंसर का जिक्र करते हुए अपने डॉक्टर को शुक्रिया कहा.

विश्वकप 2019: तो क्या सच में एडम जाम्पा ने की बॉल टेम्परिंग, फिंच ने दिया जवाब

प्रेस कॉन्फ्रेंस में युवी से पूछा गया कि क्या आपने संन्यास लेने के बारे में किसी खिलाड़ी से राय ली. युवी ने कहा कि, जैक (जाहिर खान), आशीष (आशीष नेहरा), वीरू (वीरेन्द्र सहवाग) और सचिन पाजी मेरे बैच के प्लेयर्स रहे हैं. मैंने सचिन पाजी से बात की. तब उन्होंने कहा कि यह तुम्हारा फैसला होगा, न की किसी और का. तब मैंने संन्यास लेने का फैसला किया.

युवराज सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट से लिया संन्यास, याद आएगी 6 गेंद में छह छक्कों की मशहूर पारी

बता दें कि युवराज ने 304 इंटरनेशनल वनडे मैच खेले हैं. इस दौरान उन्होंने 8701 रन बनाए. युवी ने वनडे में 14 शतक और 52 अर्धशतक जड़े हैं. उनका सर्वश्रेष्ठ वनडे स्कोर 150 रन रहा है. युवी ने ऑलराउंडर की भूमिका निभाते हुए अच्छी बॉलिंग भी की. उन्होंने 161 वनडे पारियों में 111 विकेट झटके. युवी ने वनडे में एक बार पांच विकेट लेने का कारनामा भी किया है. इसके अलावा वो 51 इंटरनेशनल टी-20 मैचों में 1177 रन बना चुके हैं. उन्होंने इस फॉर्मेट में 28 विकेट भी झटके हैं. युवी का टेस्ट मैचों में भी अच्छा प्रदर्शन रहा है.