नई दिल्ली. मेलबर्न में चहल की आंधी में ऑस्ट्रेलिया उड़ गया. चहल के सिक्सर की गाज कंगारुओं पर ऐसी गिरी कि उनके लिए बड़ा स्कोर सपना हो गया. पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 230 रन पर ढेर हो गई. इसमें चहल का योगदान 10 ओवर में 42 रन देकर 6 विकेट का रहा. ये चहल के वनडे करियर का बेस्ट परफॉर्मेन्स भी है. इस उम्दा खेल के साथ चहल ने कुछ बड़े कीर्तिमान भी ढेर किए, जिसमें सबसे तहलका मचाने वाला रहा 7 स्पिनरों की रिकॉर्ड की बलि चढ़ाना. इसके बाद तो टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को भी कहना पड़ गया ये तहलका नहीं चहलका है.

सहवाग ने चहल के करियर बेस्ट परफॉर्मेन्स को चहलका क्यों कहा अब जरा वो समझिए. दरअसल आज तक भारत क्या दुनिया के किसी भी स्पिनर ने ऑस्ट्रेलिया में खेले वनडे में 6 विकेट नहीं चटकाए थे. चहल से पहले दुनिया के 7 स्पिनरों ने ऑस्ट्रेलिया में 5 विकेट लेने का कमाल किया था, जिसमें वॉर्न, सकलैन मुश्ताक, अब्दुल कादिर, इमरान ताहिर, ब्रैड हॉग, जिमी एडम्स जैसे बड़े नाम था. यहां तक कि भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री भी ऑस्ट्रेलिया में खेले वनडे में अपनी स्पिन से 5 विकेट ले चुके हैं. लेकिन, 6 विकेट लेने वाले चहल पहले स्पिनर हैं.

ऑस्ट्रेलिया में खेले वनडे में चहल, अजीत अगरकर के साथ दुनिया के बेस्ट फीगर वाले गेंदबाज हैं. इन दोनों का बेस्ट फीगर 42 रन देकर 6 विकेट का रहा है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में मुरली कार्तिक के बाद 42/6 किसी भी भारतीय गेंदबाज का दूसरा बेस्ट परफॉर्मेन्स है. यही नहीं चहल एक वनडे में ऑस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले लेग स्पिनर हैं.

3 महीने बाद उतरे थे वनडे खेलने

करीब 3 महीने के इंतजार के बाद चहल को टीम इंडिया के लिए वनडे खेलने का मौका मिला था. इस दौरान उन्होंने 4 वनडे मिस किए. लेकिन उन्होंने इस मौके को भुनाया भी खूब और एक ही मुकाबले में कुछ ऐसा कर दिखाया कि पिछले 4 वनडे को मिस होने का सारा मलाल ही दूर हो गया.