नई दिल्ली : वर्ल्ड कप 2019 शुरू होने से पहले इस बात की काफी चर्चा की गई थी कि वहां की विकेट कैसी होगी. विश्व कप शुरू होने के बाद पिछले कुछ मैचों में देखा गया है कि विकेट ज्यादा टर्न नहीं हो रही है. इस बीच, भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने साफ कर दिया है कि विकेट चाहे कैसी भी हो, इससे ज्यादा उन्हें खुद की क्षमता पर भरोसा है. Also Read - Yuzvendra Chahal के पिता कोरोना वायरस की चपेट में आने के बाद अस्‍पताल में भर्ती, पत्‍नी Dhanashree ने दी जानकारी

Also Read - IPL 2021: Chris Gayle संग 'बॉडी पोज' देते नजर आए 'शर्टलेस' Yuzvendra Chahal, तस्वीर जमकर Viral

चहल ने इंग्लैंड रवाना होने से पहले कहा था, “विश्व कप से पहले इंग्लैंड-पाकिस्तान सीरीज के दौरान वहां पर स्पिनरों के लिए थोड़ी सी टर्न थी. लेकिन अब सबकुछ वहां की परिस्थितियों पर निर्भर करता है.” उन्होंने कहा, “मैं सपाट विकेट पर गेंदबाजी करना पसंद करता हूं, जिसमें थोड़ी उछाल होती है. मैं ऐसी विकेट में विश्वास नहीं करता, जिससे थोड़ी मदद मिलने की संभावना हो.” Also Read - IPL 2021: PBKS vs RCB Dream11 Team Prediction, Tips, Probable Playing 11 Details: एबी डिविलियर्स को चुनें कप्तान,जानिए ड्रीम 11 में किन खिलाड़ियों को दें स्थान

विश्व कप में भारत को खिताब के दावेदार के रूप में देखा जा रहा है. चहल के अनुसार भारतीय टीम दावेदार से ज्यादा ‘मजबूत’ है.

चहल ने कहा, ” यह एक बड़ा टूर्नामेंट है. अगर आप देखे तों जिस तरह से हमने पिछले कुछ समय से क्रिकेट खेला है, उसे देखते हुए हम यह कह सकते हैं कि यह एक मजबूत टीम है. ईमानदार से कहूं तो भारत के अलावा कुछ अन्य टीमें भी अच्छी है, लेकिन यह सबकुछ इस चीज पर निर्भर करता है कि उस दिन हम कैसा खेलते हैं.”

दक्षिण अफ्रीका को करारा झटका, डेल स्टेन वर्ल्डकप 2019 से बाहर

भारतीय स्पिनर ने कहा कि विदेशी धरती पर अच्छा प्रदर्शन करने के बाद से ही उन्होंने विश्व कप में भारतीय टीम के लिए खेलने का सपना देखना शुरू कर दिया था. उन्होंने कहा, “शतरंज से क्रिकेट के मैदान में उतरना एक सपने की तरह था. जब भी मैं टीवी भारत को विश्व खेलते देखता तो मैं भी सोचता था कि मैं भी एक दिन इस टीम का हिस्सा बनूंगा. 2017 के बाद मैं नियमित रूप से टीम के साथ खेलने लगा.”

चहल ने कहा, “शानदार प्रदर्शन के बाद मैं विश्व कप में खेलने के बारे में सोचने लगा. अब जाकर मुझे यह अहसास हुआ है कि मेरा सपना पूरा हो गया. घर के बाहर अच्छा प्रदर्शन करने से मेरा आत्मविश्वास बढ़ा है.”