नई दिल्ली: अपने बकाए वेतन को हासिल करने के लिए जिम्बाब्वे के खिलाड़ियों ने टी-20 सीरीज के बहिष्कार की धमकी दी है. खिलाड़ियों ने अपने बोर्ड जिम्बाब्वे क्रिकेट को 25 जून तक का वक्त दिया है. टीम के खिलाड़ियों का कहना है कि अगर उन्हें बकाया वेतन नहीं दिया गया, तो वे जुलाई में ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाली टी-20 सीरीज का बहिष्कार करेंगे. जिम्बाब्वे के खिलाड़ियों को बोर्ड की ओर से तीन माह का वेतन और पिछले साल जुलाई में श्रीलंका के खिलाई खेली गई सीरीज की मैच फीस नहीं मिली है. ऐसे में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज के लिए प्रशिक्षण लेने से भी इनकार कर दिया है.

जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम के मुख्य कोच लालचंद राजपूत 10 जून को जिम्बाब्वे पहुंच सकते हैं, लेकिन उन्हें मैदान पर खिलाड़ी नहीं बल्कि खाली नेट नजर आएंगे. इस साल के अंत में जिम्बाब्वे पांच वनडे मैचों की सीरीज का भी आयोजन करेगा, जो पाकिस्तान के खिलाफ खेली जाएगी. जिम्बाब्वे क्रिकेट के प्रवक्ता ने कहा कि बोर्ड इस मामले को सुलझाने की कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा, “खराब आर्थिक स्थिति के कारण बोर्ड अपने खिलाड़ियों और स्टॉफ को वेतन नहीं दे पाया है. हालांकि, यह मामला हमारी प्रथम प्राथमिकता है और इसीलिए बोर्ड इसे सुलझाने की कोशिश कर रहा है.”

इंग्लैंड में चलेगा टीम इंडिया का ‘तुरुप का इक्का’, मैकग्राथ ने बताया स्टम्प उखाड़ गेंदबाज

बता दें कि जिम्बाब्वे टीम 1 जुलाई से टी-20 ट्राई सीरीज खेलेगी. इस सीरीज में जिम्बाब्वे के अलावा पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की टीमें रहेंगी. इस सीरीज का पहला मैच जिम्बाब्वे और पाकिस्तान के बीच हरारे में 1 जुलाई को खेला जायेगा. वहीं दूसरा मुकाबला जिम्बाब्वे और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जायेगा. इस सीरीज का आखिरी मैच 6 जुलाई को खेला जाना है. इसके बाद जिम्बाब्वे और पाकिस्तान के बीच वनडे सीरीज खेली जानी है. इस सीरीज का पहला मुकाबला 13 जुलाई को खेला जायेगा