चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह और केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के बीच ‘लंगर’ पर जीएसटी वापसी के मुद्दे को लेकर ट्विटर पर तीखी बयानबाजी का दौर थमता नहीं दिख रहा. हरसिमरत ने अमरिन्दर से स्वर्ण मंदिर में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) के लिये सामुदायिक रसोई के लिए खरीदी गई वस्तुओं के लिये एकत्रित माल और सेवा कर (जीएसटी) की शेष राशि को वापस करने के लिए कहा था, जिसपर अमरिन्दर ने कुछ दिन पहले तो हरसिमरत को ‘आदतन झूठा’ करार दिया और फिर बुधवार को कहा कि जितना मैंने सोचा था आप उससे भी ज्यादा मूर्ख निकलीं.

अमरिन्दर सिंह ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘हरमिसरत जितना मैंने सोचा था, आप उससे भी ज्यादा मूर्ख निकलीं. मैं स्पष्ट रूप से कह चुका हूं कि दावा की गई राशि का भुगतान हमने कर दिया है. आप लोग किस तरह की सरकार चलाते थे? आप यह भी नहीं जानतीं कि दावों के बदले धनराशि का भुगतान होता है और इस प्रक्रिया में समय लगता है.’

सरकार ने मंगलवार को एसजीपीसी को 1.96 करोड़ रुपये जारी किए थे, जिसके बाद केंद्रीय मंत्री ने दावा किया था कि स्वर्ण मंदिर में सामुदायिक रसोई के लिए खरीदी गई वस्तुओं के बदले 1.68 करोड़ रुपये दिए जाने अभी बाकी हैं.