नई दिल्ली: तेजबहादुर यादव को तो आप जानते ही होंगे. बीएसएफ में जवानों को मिल रहे खराब भोजन की शिकायत के बाद तेज बहादुर यादव को सेना से बर्खास्त कर दिया गया था. बीते दिनों तेजबहादुर यादव जननायक जनता पार्टी (जजपा) में शामिल हुए थे. यादव ने मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ हरियाणा विधानसभा चुनाव लड़ा जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा. भाजपा और जजपा गठबंधन के बाद तेजबहादुर यादव ने अब पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

तेज बहादुर यादव को 2017 में बीएसएफ में खराब भोजन को लेकर वीडियो जारी करने के बाद उनकी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था. यादव लोकसभा चुनाव 2019 से पहले समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हुए थे और उन्हें महागठबंधन के उम्मीदवार के रूप में आम चुनाव लड़ने के लिए चुना गया था.

शुक्रवार को बीजेपी के साथ गठबंधन की घोषणा के बाद तेज बहादुर ने अपने फैसले की घोषणा करने के लिए एक वीडियो जारी किया है. यादव ने कहा, दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा के लोगों को धोखा दिया है. राज्य में जनता ने भाजपा को नकार दिया है. दुष्यंत चौटाला ने आगे बढ़कर भाजपा का समर्थन किया है, जिसे राज्य की जनता ने सत्ता से बाहर कर दिया था. यादव ने कहा कि जजपा भाजपा की ‘बी-टीम’ है. दोनों ही दल एक समान हैं और लोगों को उनका विरोध करना चाहिए.

बहुमत के आंकड़े को पार करने में विफल रहने के बाद शुक्रवार को हरियाणा विधानसभा चुनाव में 10 सीटें जीतने वाली जजपा ने भाजपा को समर्थन दिया. भाजपा और जजपा गठबंधन से पहले इस बात पर सहमति बनी की मुख्यमंत्री भाजपा का होगा और उप मुख्यमंत्री जजपा का. मनोहर लाल खट्टर शनिवार को हरियाणा में सरकार बनाने के लिए हिस्सेदारी का दावा करेंगे.