लखनऊ: उत्तर प्रदेश हज समिति के कार्यालय की चहारदीवारी को हाल में केसरिया रंग से पोते जाने के मामले में राज्य सरकार ने समिति के सचिव को पद से हटा दिया है. प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की प्रमुख सचिव मोनिका एस. गर्ग द्वारा कल जारी आदेश के मुताबिक हज समिति के सचिव आर. पी. सिंह को तात्कालिक प्रभाव से पद से हटा दिया गया है. पद पर स्थायी तैनाती होने तक इसका कार्यभार अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के सहायक निदेशक विनीत श्रीवास्तव को सौंपा गया है.Also Read - Kesar Ke Pani Ke fayde: महिलाओं के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है केसर का पानी, दूर होती हैं ये समस्याएं

Also Read - Saffron Water Benefits: केसर के पानी की मदद से इन समस्याओं से आपको मिलेगा छुटकारा, होंगे ये शानदार स्वास्थ्य लाभ

इसके पूर्व, सिंह को एक नोटिस देकर उनसे सात बिंदुओ पर सफाई मांगी गयी थी. उनसे पूछा गया था कि किस आदेश और नियम के तहत हज समिति कार्यालय की बाहरी दीवार को भगवा रंग से पोता गया था और आखिर एक दिन बाद उसका रंग क्यों बदल दिया गया. दोबारा पुताई कराने के लिये कौन जिम्मेदार है और दोबारा हुई पुताई का खर्च या नुकसान कौन उठायेगा. Also Read - रजनीकांत ने लगाया बड़ा आरोप, कहा- बीजेपी मुझे भगवे में रंगने की कोशिश कर रही है

यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा फैसला, खत्म की हज सब्सिडी, मुस्लिमों को अपने खर्च पर करनी होगी हज यात्रा

मालूम हो कि गत पांच जनवरी को राज्य हज समिति कार्यालय की बाहरी दीवार केसरिया रंग से रंगी पायी गयी थी. कार्यालय के गेट के खम्बों को गहरे केसरिया रंग से और बाकी हिस्सों को हल्के भगवा रंग से रंगा गया था. पहले यह दीवार सफेद रंग की थी.

सचिवालय भवन को भगवा रंग से रंगे जाने को लेकर निशाने पर आयी प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के लिये हज समिति कार्यालय पर गेरुआ रंग चढ़ाया जाना विपक्ष की तीखी आलोचना लेकर आया. अगले ही दिन हज दफ्तर की दीवार को केसरिया के बजाय हल्के पीले रंग से पोत दिया गया था.

प्रदेश में विभिन्न इमारतों को भगवा रंग में रंगे जाने को लेकर खासी चर्चा हो रही है. इटावा में शौचालयों को भी केसरिया रंग से रंगे जाने पर विपक्ष ने सरकार को घेरा था.