पुणे: कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए महाराष्ट्र के पुणे, पिंपड़ी-चिंचवाड और जिले के कुछ अन्य हिस्सों में 13 जुलाई से दस दिनों का लॉकडाउन लगाया जाएगा, जबकि ठाणे में चल रहा लॉकडाउन 19 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है एवं नांदेड़ में 12 से 20 जुलाई तक कर्फ्यू लगाया जाएगा. Also Read - Maharashtra Covid-19 Update: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 12,248 नए मामले, 390 लोगों की मौत

एक अधिकारी के अनुसार उपमुख्यमंत्री और जिला संरक्षक मंत्री अजीत पवार की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लॉकडान लगाने का निर्णय लिया गया. Also Read - फिलहाल बंद रहेंगे स्कूल, अभिभावकों की ली जाएगी राय; शिक्षा मंत्री बोले- गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के अनुसार निर्णय लेंगे

संभागीय आयुक्त (पुणे संभाग) दीपक म्हेसेकर ने कहा कि 13-18 जुलाई के दौरान लॉकडाउन सख्त होगा और केवल दूध, दवा की दुकानें एवं क्लीनिक को खुलने की इजाजत होगी. जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने कहा कि इस वायरस की श्रृंखला को तोड़ने के लिए लॉकडान का निर्णय लिया गया है. Also Read - Coronavirus Cases In India: कोरोना से 24 घंटे में 861 लोगों ने गंवाई जान, 64 हजार से अधिक संक्रमित

ठाणे से प्राप्त समाचार के अनुसार ठाणे नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त गणेश देशमुख ने शहर में लॉकडाउन को 19 जुलाई तक बढ़ाने का आदेश जारी किया. शहर में दो जुलाई को दस दिनों के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था जिसके तहत ज्यादातर दुकानें बंद हैं तथा जरूरी चीजें घरों पर ही पहुंचा दी जा रही हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि पुणे, पिंपड़ी-चिंचवाड और जिले के कुछ अन्य हिस्सों में 13 जुलाई की आधीरात को लॉकडाउन प्रभाव में आएगा जो 23 जुलाई तक चलेगा. पुणे जिले में गुरुवार को 1803 नए मरीजों के सामने आने से कोविड-19 संक्रमण के मामले 34,399 हो गए जबकि अबतक 978 लोगों की जान चली गई. बृहस्पतिवार को ठाणे में कोविड के कुल मामले 12,053 हो गये जबकि जिले में कुल 48,856 तक पहुंच गए.

उधर, नांदेड़ जिले में 12 जुलाई से 20 जुलाई तक कर्फ्यू लगा रहेगा. एक सरकारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई. जिला प्रशासन के दिशानिर्देश के मुताबिक कर्फ्यू के दौरान दवा दुकानें और सरकारी कार्यालय सामान्य रूप से खुले रहेंगे जबकि राशन की दुकानें, सब्जियों की दुकानें, दूध की दुकानें और रसोई गैस की दुकानें निर्धारित अविध के दौरान ही खुलेंगी. जिले में शुक्रवार सुबह तक कोरोना वायरस के कुल मामले बढ़कर 558 हो गए.

औरंगाबाद में कर्फ्यू, राशन वितरण की अनुमति नहीं
कोविड-19 के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के लिए औरंगाबाद में लागू “जनता कर्फ्यू” के दौरान किसी को भी राशन या खाने के पैकेट बांटने की इजाजत नहीं दी जाएगी.  महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर और कुछ उपनगरीय इलाकों में स्थानीय प्रशासन ने 10 से 18 जुलाई तक “जनता कर्फ्यू” का आह्वान किया गया  था. कर्फ्यू को सख्ती से लागू किया जाएगा और सभी सड़कों पर कड़ी निगरानी की जाएगी.  बिना अनुमति के आसपास घूमने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस अवधि के दौरान राशन और भोजन के पैकेट के वितरण की अनुमति नहीं होगी.