तिरुवनंतपुरम: मई 2014 में हिरासत में हुई एक युवक की मौत के मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग कर रहे पीड़ित के भाई से सोमवार को मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मुलाकात की है. पीड़ित का भाई सचिवालय के बाहर 767 दिनों से विरोध प्रदर्शन कर रहा है. केरल सरकार ने एक बार फिर केंद्र सरकार को पत्र लिखते हुए सीबीआई जांच कराने की सिफारिश की है. Also Read - Kerala Gold smuggling case: बीजेपी ने मांगा मुख्यमंत्री पिनरई विजयन का इस्तीफा

Also Read - केरल विमान हादसा: केंद्रीय विमानन मंत्री के बाद केरल CM ने की मुआवजे की घोषणा, मृतकों के परिजनों को दिए जाएंगे 10-10 लाख रुपये

सीएमओ की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, राज्य के मुख्य सचिव ने रविवार रात इस संबंध में पत्र लिखते हुए सीबीआई से मामले को अपने हाथ में नहीं लेने के अपने पूर्व में लिए निर्णय को फिर से विचार करने की बात कही है. Also Read - केरल विमान हादसा: काफी चैलेंजिंग है कोझिकोड एयरपोर्ट का 'टेबलटॉप' रनवे, भारी बारिश के चलते हुआ हादसा!

यह भी पढ़ें: सड़क दुर्घटना में घायल लोगों के 48 घंटे के इलाज का खर्च उठाएगी केरल सरकार

राज्य सरकार ने पिछले साल जुलाई में भी केंद्र को पत्र लिखते हुए मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी क्योंकि पारसाला थाने में दर्ज मामले में कुछ पुलिसकर्मी आरोपी थे.

विज्ञप्ति में कहा गया कि बहरहाल सीबीआई ने उस अनुरोध को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि उसके पास काफी मामले हैं और यह घटना दुर्लभतम से दुर्लभ मामलों की श्रेणी में नहीं आती है.

श्रीजीत 767 दिनों से सचिवालय के सामने अपने भाई की मौत के मामले में सीबीआई जांच कराने और आरोपियों को जांच के दायरे में लाने की मांग कर रहा है.