फर्रुखाबाद। फतेहगढ़ जिला जेल में रविवार सुबह से सात घंटे तक क़ैदियों का तांडव जारी रहा। क़ैदियों ने भंडार ग्रह में आग लगा दी, पथराव किया। इस हमले में प्रभारी डीएम, सीडीओ, जेल अधीक्षक समेत कई अधिकारी घायल हो गए। क़ैदी अपने बीमार साथी को इलाज ना मिलने से नाराज़ थे। धीरे-धीरे शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया।

कैदियों में उपद्रव की वजह थाना राजेपुर क्षेत्र का एक बंदी अतुल बताया जा रहा है। अतुल काफी समय से जिला जेल के अस्पताल में कमर दर्द का इलाज करा रहा था। शनिवार को जिला जेल के डॉक्टर नीरज चौहान ने अतुल को डिस्चार्ज किए जाने की रिपोर्ट जेल अधीक्षक को भेज दी थी। यह भी पढ़ेंः सीएम योगी ने अपराधियों को किया ख़बरदार, मंच से सुनाए ये दो किस्से!

रविवार सुबह जब बंदीरक्षक उसे बैरक की ओर ले जाने लगा तो अतुल बंदीरक्षक से भिड़ गया जिसके तुरंत बाद जेल का अलार्म बज गया। इससे पहले कि जेल प्रशासन और बंदीरक्षक कैदियों को नियंत्रण में कर पाते, कैदी बैरकों की छत पर चढ़ गए और वहां से पथराव शुरू कर दिया।

वार्ता करने के प्रयास में प्रभारी जिलाधिकारी एनपी पांडेय, जेल अधीक्षक आरके वर्मा, फतेहगढ़ कोतवाली प्रभारी अनुज निगम व एक बंदीरक्षक संतोष कुमार घायल हो गए हैं। वहीं एक बंदी राजेश भी पोल पर चढ़ने के प्रयास में गिरने से घायल हो गया है। सभी घायलों को लोहिया अस्पताल भेजा गया है।