महाराष्ट्र में लातूर सूखा प्रभावित मराठवाड़ा क्षेत्र में बुरी तरह प्रभावित शहरों में से एक है। वहां ऐसा सुख पड़ा है की लोग बूंद-बूंद के लिए तरस गए हैं। मगर इस समस्या के समाधान के लिए ट्रैन में 25 लाख लीटर पानी सिंगल ट्रिप में लाए जाने का काम शुरू किया गया। इस योजना के तहत दो ट्रेन्स के जरिये लातूर के लोगों को हर रोज़ 50 लाख लीटर पानी मुहैया कराने की कोशिश की गई। जिसके हिसाब से लातूर के हर शख्स को करीब 10 लीटर पानी रोज़ देने की कोशिश की गई ।

‘जलदूत’ के नाम से पानी की पहली ट्रेन ने सूखे से जूझ रहे लातूर को 6 करोड़ 20 लाख लीटर पानी मुहैया कराया। जिसका परिवहन शुल्क केवल 4 करोड़ रूपये का बिल आया है। इस बिल को जिला कलक्टर को दिया गया है। इस मामले में मध्य रेलवे में महानिदेशक एसके सूद ने कहा है की “यह बिल प्रशासन के आग्रह अनुरूप लातूर जिला कलक्टर को भेजा गया है।” उन्होंने यह भी कहा है की इस बिल को अदा करते हैं या उचित माध्यम से इसे माफ करने का आग्रह करते हैं, यह बात जिला कलक्टर के हाथ में सौपा गया है। यह भी पढ़ें: सूखा प्रभावित मराठवाड़ा क्षेत्र के लातूर शहर में आज पहुंचेगा 25 लाख लीटर पानी

आपको बता दें की रेल मंत्रालय़ की पहल पर 50 डिब्बे वाली दो मालगाड़ियां रेलवे की कोटा वर्कशॉप भेजी गई थीं, इन मालगाड़ियों के हर एक डिब्बे में करीब 54 हज़ार लीटर पानी स्टोर किया जा सकता है। इस तरह से 50 डिब्बों वाली एक ट्रेन करीब 25 लाख लीटर पानी लेकर लातूर पहुंचाई गई थी और इस तरह से लातूर के लोगों के जिंदगी को थोड़ा आसान करने का प्रयास किया गया था। (फोटो क्रेडिट: ज़ी न्यूज़)