काजीरंगा: असम में यूनेस्को से विश्व विरासत स्थल घोषित काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में अवैध शिकार करने वालों ने एक मादा गैंडे को मार डाला. प्रधान वन संरक्षक (वन्य जीव) विकास ब्रह्मा ने यहां मीडिया को बताया कि काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के बगोरे रेंज के तहत डफलांग कैंप में वन्य रक्षकों ने कल रात नौ बजकर 10 मिनट पर गोली चलने की आवाजें सुनी . इसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए जानवरों की रक्षा के लिए छह राउंड गोलियां चलायी गयी . Also Read - क्रिकेटर रोहित शर्मा की नई पारी, विलुप्त हो रहे इस जानवर के संरक्षण के लिए शुरू किया अभियान

Also Read - Assam floods: Sarbananda Sonowal visited Kaziranga National Park | असम: सीएम सोनोवाल ने किया बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा, मोदी ने दिया मदद का भरोसा

ब्रह्मा ने कहा कि वन रक्षकों की त्वरित कार्रवाई के कारण तस्कर मृत गैंडे का सींग नहीं ले जा सके . वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फरार तस्करों का पता लगाने के लिए अभियान शुरू किया गया. इस साल गैंडे के शिकार की यह पहली घटना है. भारत में एक सींग वाले गैंडे के लिए काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान प्रसिद्ध है. Also Read - Kaziranga National park: 2 killed in police firing during Kaziranga eviction | काजीरंगा में लोगों को हटाने गई पुलिस से झड़प में 2 मरे

यह भी पढ़ें: काजीरंगा उद्यान में मादा गैंडे, उसके बच्चे का शिकार, सींग गायब

बता दें गैंडे के सींग की कीमत बाजार में सोने और हीरे से भी ज्यादा है. इनका शिकार करने वालों को इनके सींग की अच्छी खासी कीमत मिलती है जो इनके तेजी से हो रहे शिकार का कारण है. इस वजह से गैंडों की संख्या में तेजी से कमी आई है.