लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की सड़कों पर आलू फेंके जाने की घटना के बाद अब सरकार ने इस पर फैसला लिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा था कि जरूरत पड़ी तो सरकार आलू का समर्थन मूल्य बढ़ा सकती है. इसके बाद अब सरकार ने आलू का समर्थन मूल्य 79 रूपये बढ़ा दिया है. Also Read - किसानों से राहुल गांधी की बातचीत, बोले- BJP वाले अंग्रेजों के साथ खड़े...

कृषि विभाग के अधिकारियों के मुताबिक आलू का समर्थन मूल्य 487 से बढाकर 566 रुपये करने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है. जल्द ही इसे मूंजरी के लिए भेजा जाएगा. प्रस्ताव के मुताबिक आलू की खरीद इस बार एक मार्च से ही शुरू हो जाएगी. इसके अलावा स्टैंडर्ड आलू न होने की वजह से इस बार किसानों का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा. सरकार हर साइज का आलू खरीदेगी. Also Read - क्या हैं कृषि से जुड़े वो तीन विधेयक जिन पर मचा है बवाल? ये हैं किसानों की समस्याएं और उनका समाधान

सू़त्रों के मुताबिक पिछले साल सिर्फ स्टैंडर्ड साइज के आलू ही खरीदे गए थे. इधर आलू के मुद्दे को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी निशाना साधा है. अखिलेश ने कहा है कि सरकार किसानों की आत्महत्या के मामलों को छिपा रही है. आलू खरीदा नहीं गया इसीलिए यह राजधानी की सड़कों पर दिखाई दे रहा है. अब नया आलू आने वाला है लेकिन इसके लिए भी सरकार की पूरी तैयारी नहीं है. Also Read - लव जेहाद पर सख्त योगी सरकार: धर्मांतरण के खिलाफ जल्द ही यूपी में अध्यादेश होगा जारी