नई दिल्ली: भारत चीन सीमा विवाद के बाद सरकार की तरफ से 59 चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया गया था. इसके बाद एक बार फिर सरकार ने 47 चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन किया है. ये मोबाइल ऐप्स पिछले बैन किए गए चीनी ऐप्स के क्लोन थे. जैसे इनमें टिकटॉक लाइट और कैमस्कैनर एडवांस जैसे नाम शामिल थे. बता दें कि बीते शु्क्रवार को इस बाबत आदेश जारी किया गया था. Also Read - सरकार ने शुरू की चीनी सेना से संबंधित निवेशों की पहचान, इन जगहों पर PLA संबंधित लोग कर रहे हैं काम

अगर भारत सरकार की बात करें तो भारत सरकार ने चीनी निवेश को देखते हुए नियमों को और सख्त कर दिया है. अब चीनी कंपनियां अगर सरकारी प्रोजेक्ट मे भाग लेना चाहेंगी तो यह उनके लिए काफी कठिन होगा. बता दें कि 29 जून को LAC में हुए सीमा विवाद कारम भारत सरकार ने चीनी एप्स को भारत में बैन कर दिया था. Also Read - 59 Chinese Apps Ban पर बोले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, भारत सरकार का यह 'डिजिटल स्ट्राइक'

बता दें कि इससे तिलमिए चीन ने भारत को व्यापार युद्ध की धमकी और डोकलाम से भी ज्यादा आर्थिक नुकसान करने की धमकी डे डाली थी. बता दें कि चीन के नियमों के हिसाब से अगर चीनी सरकार किसी चिनी कंपनी से किसी जानकारी की मांग करती है तो यह लोगों का डाटा कंपनियों को चीनी सरकार को देना अनिवार्य है. इस कारण इन ऐप्स को भारत में बैन किया गया. Also Read - सरकार ने सभी वीजा निलंबित किए, ओसीआई कार्ड धारकों की यात्रा पर पाबंदी