Apple acquires Intel : प्रीमियम इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बनाने वाली कंपनी Apple ने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस के लिए चिप बनाने वाली शीर्ष कंपनी Intel का अधिग्रहण कर लिया है। Apple की ओर से जारी आधिकारिक जानकारी के मुताबिक दोनों कंपनियों के बीच यह सौदा करीब 1 बिलियन डॉलर (करीबन 7,000 करोड़ रुपये) में हुआ है। इस सौदे के तहत Apple ने Intel के स्मार्टफोन्स के लिए मॉडेम बनाने वाले कारोबार का अधिग्रहण (Apple acquires Intel) किया है। Apple बीते कई दिनों से अपने डिवाइसेस में लगने वाली चिप के मामले में आत्मनिर्भर बनने के लिये Intel मोडेम चिप इकाई खरीदने के लिये बातचीत कर रही है। यह जानकारी सबसे पहले अमेरिकी समाचार पत्र वॉल स्ट्रीट जर्नल (Apple Intel News) ने दी थी।

दोनों कंपनियों के बीत हुए इस सौदे के बाद साल 2019 के खत्म होते-होते Intel के 2200 कर्मचारी Apple ज्वॉइन कर लेंगे। इसके साथ ही Apple को इंटेल द्वारा फाइल किए 17,000 पेटेंट भी मिले जाएंगे, जो कि स्मार्टफोन के मॉडेम आर्केटेक्ट से जुड़े हैं। इसके साथ ही अब 2020 के अंत तक Apple अपना पहला 5G इनेबल iPhone लॉन्च करने की राह पहले से आसान हो गई है।

टेकनोलॉजी के क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञों का मानना है कि Apple के लिए यह करार काफी अहम है, क्योंकि उसकी प्रतिद्वंद्वी कंपनियां नेक्स्ट जेनेरेशन के 5G नेटवर्स इनेबल स्मार्टफोन लॉन्च कर चुकी हैं। इस मामले में अमेरिकी कंपनी काफी पीछे हैं। अगले कुछ सालों में मार्केट 5G नेटवर्क इनेबल फोन्स का होगा ऐसे में कंपनी का ये कदम उसके लिए काफी फायदेमंद होगा।

Apple पिछले कुछ समय से क्वालकॉम पर अपनी निर्भरता कम करने तथा स्मार्टफोन की क्षमता बढ़ाने के लिये मोबाइल चिप इकाई में निवेश कर रही है। इंटेल ने भी इस साल की शुरुआत में कहा था कि वह स्मार्टफोन के चिप के मामले में प्रतिस्पर्धा से बाहर निकलने की कोशिश कर रही है। उल्लेखनीय है कि एप्पल और क्वालकॉम के बीच रॉयल्टी को लेकर करीब दो साल तक कानूनी विवाद चल चुका है।