नई दिल्ली: नेत्रहीन और बधिर के लिए प्रौद्योगिकी कंपनी ऐपल एक ऐसी तकनीक लेकर आ रहा है, जिससे उन्हें तकनीक की भाषा सीखने-समझने में आसानी होगी. फिलहाल इसे अमेरिका के स्कूलों में लाया जा रहा है, फिर उसे दुनिया के अन्य स्कूलों को दिया जाएगा. ऐपल ने एक बयान में कहा है कि अमेरिका के विशेष स्कूलों यानी उन स्कूलों में, जहां दृष्टिहीन, बधिर एवं अन्य विकलांग छात्र पढ़ते हैं, वहां ‘एवरीवन कैन कोड’ शिक्षा प्रणाली पेश की जाएगी. Also Read - Apple अगले महीने लॉन्च कर सकता है चार नए iPhone 12, जानें कीमत और देखें अपने बजट का आईफोन

ऐपल के सीईओ टिम कुक ने कहा कि इस कोडिंग तकनीक से ऐपल का उद्देश्य शिक्षा को सुगम बनाना है. उन्होंने कहा, हमने ‘एवरीवन कैन कोड’ का विकास किया है, क्योंकि हमारा मानना है कि प्रौद्योगिकी की भाषा समझने के मामले में सभी विद्यार्थियों को समान अवसर मिलना चाहिए. Also Read - कम कीमत में आएगा iPhone 12! Apple कर रहा बड़े बदलाव

उन्होंने कहा कि ऐपल ने यह तकनीक पाठ्यक्रम किंडरगार्टन से लेकर कॉलेज छात्रों के लिए बनाया गया है. इसके जरिए छात्र न केवल पहली (पजल्स) सुलझा सकते हैं, बल्कि एक टैप पर कैरेक्टर को कंट्रोल कर सकते हैं. इसके साथ ही वे अपना एप भी विकसित कर सकते हैं. Also Read - 5जी तकनीक पर तेजी से काम कर रहा है चीन, 4 लाख बेस स्टेशन बनाए, कैसे आगे बढ़ रहा, पढ़ें

(इनपुट: आईएएनएस)