ऐपल कंपनी ने पहली बार अपने स्मार्टफोन्स में डुअल सिम का ऑप्शन यूजर्स को दिया है. ऐपल कंपनी के तीन नए आईफोन iPhone XS, iPhone XS Max और iPhone XR में पहली बार ये फीचर दिया गया है. हालांकि इन iPhones में डुअल सिम का फीचर पारंपरिक रूप से काम नहीं करेगा. इसकी जगह ऐपल ने डिजिटल सिम का इस्तेमाल किया है जिसे आमतौर पर e-SIM भी कहा जाता है. iPhones में दूसरे सिम कार्ड का ऑप्शन ऐपल वॉच सीरीज 3 के साथ दिया गया है.Also Read - Apple Hair Mask: बालों की बड़ी से बड़ी परेशानी चुटकियों में हो जाएगी ठीक, बस एक बार अप्लाई करें सेब के ये हेयर मास्क

Also Read - Samsung ने Apple से छिना नंबर वन का ताज, बन गई दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन कंपनी

एपल ने लॉन्च किए 3 iPhone, जानें भारत में कब होगी डिलीवरी, कितनी है कीमत Also Read - कोरोना संकट: भारत की मदद के लिए आगे आए 40 अमेरिकी कंपनियों के CEO; गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और एप्पल ने भी बढ़ाया मदद का हाथ

क्या है eSIM?

Embedded-Subscriber Identity Module (eSIM), को ऐपल के iPhones में इस्तेमाल किया जाएगा. e-SIM डिवाइस में ही रहेगी और जिस तरह आम डुअल मोबाइल में सिम को निकाला जा सकता है, उस तरह इसको निकाला नहीं जा सकेगा.

ये सिम साइज में बहुत छोटी होगी और ऐपल की कई सारी डिवाइस में इस्तेमाल हो सकेगी जिसमें iPhone भी शामिल है. e-SIM पारंपरिक सिम की तरह ही काम करेगी लेकिन आमतौर पर होने वाली मैकेनिकल समस्या इसमें नहीं होगी. e-SIM नेकस्ट जेनरेशन की डिवाइस के लिए बहुत ही खास साबित होगी.

महज 6 दिनों में 1 लाख से ज्यादा ग्राहकों ने V11 Pro बुक कराया

e-SIM का एक बहुत बड़ा फायदा ये है कि इसे रिमोट से कंट्रोल किया जा सकेगा. उदाहरण के लिए अगर आप जियो से बदलकर एयरटेल में या इसके उलटे नेटवर्क बदलना चाहते हैं तो आपको मोबाइल से अपनी पुरानी सिम निकालकर नई सिम डालने की जरूरत नहीं होगी.

भारत में एयरटेल और रिलांयस जिओ e-SIM ऑफर कर रहे हैं. दोनों कंपनियों ने इस नई सर्विस के लिए स्पेशल सेल्यूलर नेटवर्क लॉन्च किए हैं. ऐपल कंपनी ने भी इन दोनों कंपनियों के साथ e-SIM के लिए साझेदारी की है. बता दें कि Google Pixel 2 पहला फोन था जो e-SIM सपोर्ट के साथ आया था. लेकिन उस समय ये सुविधा सिर्फ अमेरिका में ही थी.