Call of Duty मोबाइल गेम को काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। इस गेम को बेहद कम समय में 2 करोड़ से ज्यादा डाउनलोड मिल चुके हैं। यह गेम Android और iOS दोनों प्लेटफॉर्म के लिए उपलब्ध है। रिपोर्ट के मुताबिक यूजर्स इस पर 20 लाख डॉलर माइक्रोट्रांजैक्शन खर्च कर चुके हैं। भारत में भी यह गेम काफी पॉप्युलर हुआ है। इसका संकेत इस बात से मिलता है कि इस गेम के कुल इंस्टॉलेशन में भारत की हिस्सेदारी 14% के करीब है। जबकि यूनाइटेड स्टेट की हिस्सेदारी 9% के करीब है। गेम काफी समय से Beta वर्जन पर चल रहा था और कुछ चुनिंदा प्लेयर्स को इसे पहले ही खरीदने का मौका भी मिला था।

इसके Beta वर्जन को दुनिया भर में काफी सराहा गया था और यहां तक की कहा गया है कि यह गेम PUBG Mobile गेम को कड़ी टक्कर देगा। Call of Duty: Mobile एक फ्री टू प्ले गेम है जिसमें आपको पैक्स मैप्स, मोड्स, हथियार मिलते हैं।

Call of Duty मोबाइल गेम का डाउनलोड साइज 1.1GB है। डाउनलोड करने के बाद प्लेयर्स इसमें अपने फेसबुक अकाउंट से लॉग-इन कर सकते हैं। इससे प्लेयर्स का गेम डाटा भी बैकअप रहता है। गेम की शुरुआत में प्लेयर्स को गेम से अवगत कराया जाता है। जैसा कि हमनें आपको बताया कि इस गेम को काफी लंबे समय से Beta वर्जन पर चलाया जा रहा था, जिससे इसमें शामिल बग्स (समस्याओं) का पता लगा कर उन्हें ठीक किया गया और आखिर में अब डेवलपर्स ने इसका क्लीन और फाइनल वर्जन लॉन्च किया है। PUBG Mobile के जैसे ही यह गेम भी पॉप्युलर इसलिए हो रहा है क्योंकि यह FPS (फर्स्ट परसन शूटर) गेम है और खेलने के लिए बिल्कुल फ्री है। इस गेम में PUBG Mobile के जैसे प्लेयर्स शुरुआत से बैटल रोयाल मोड नहीं खेल सकेंगे।

इसमें प्लेयर्स को पहले 7वें लेवल तक पहुंचना होगा। उसके बाद ही प्लेयर्स बैटल रॉयल मोड खेल सकेंगे। यह गेम पॉप्युल PC गेम Call of Duty: Blackout मोड के जैसा ही है। इसमें भी गेम में 100 प्लेयर्स एक साथ खेलते हैं और उनके बीच आखिर तक टिकने वाला प्लेयर या टीम विजेता होती है। इसके अलावा इसमें PUBG Mobile के जैसे कार भी चला सकते हैं। खेलने के लिए तीन मोड हैं, जिनमें सोलो (सिंगल), डुओ (दो प्लेयर्स), टीम (चार प्लेयर्स) शामिल हैं। इसके अलावा इसमें टीम डेथमैच मोड, सर्च एंड डिस्ट्रॉय और फ्री फॉर ऑल मोड भी हैं।