भारत में कर्नाटक के लोगों को जल्द ही हर दिन कम से कम एक घंटे फ्री वाई-फाई की सर्विस दी जाएगी। कर्नाटक सरकार ने राज्य में विधानसभा उपचुनाव से पहले यह बड़ा एलान किया है। Bengaluru Tech Summit 2019 में डेप्टुटी चीफ मिनिस्टर C. N. Ashwat Narayan ने डेली फ्री इंटरनेट देने की योजना के बारे में बताया। डेप्युटी चीफ मिनिस्टर ने कहा कि हमे इस योजना को लागू करने के लिए 9 महीनों का समय चाहिए। इस प्रोजेक्ट को रोल आउट करने के लिए राज्य सरकार ने ACT Fibernet के साथ हाथ मिलाया है।
इस प्रोजेक्ट में 100 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद बेंगलुरु के लोगों को डेली 1 घंटे की फ्री सर्विस दी जाएगी। डेप्युटी चीफ मिनिस्टर ने कहा कि इस परियोजना के लिए पोल्स को इंस्टॉल करने के लिए ACT Fibernet आगे आया है। हम इसके लिए मामूली शुल्क लेंगे और बिजली की सप्लाई करेंगे।

उन्होंने कहा कि भारत में मोबाइल डाटा कंज्मप्शन में तो उछाला देखा गया है, लेकिन ब्रॉडबैंड डाटा कंज्मप्शन काफी कम है। हालांकि अगस्त में Reliance JioFiber के कॉमर्शियल ऑपरेशन शुरू होने से ब्रॉडबैंड डाटा कंज्मप्शन में भी तेज उछाल आने की उम्मीद जताई जा रही है। फ्री इंटरनेट सर्विस देकर राज्य सरकार और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड राज्य में होम ब्रॉडबैंड सर्विस को बढ़ाना चाहती है।

इससे पहले आईटी की दिग्गज कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) ने क्वालकॉम टेक्नोलॉजी के साथ मिलकर बेंगलुरु में इनोवेशन हब लॉन्च किया। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कहा कि नए हब का इस्तेमाल डोमेन-स्पेसिफिक सॉल्यूशन्स को बनाने के लिए किया जाएगा, जो कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) और 5जी टेक्नोलॉजी की शक्ति का उपयोग कर वैश्विक उद्यमों की मदद के लिए डिजिटल ट्रांसफॉर्म में तेजी लाएगा।