नई दिल्ली: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हाट्सऐप पर अफवाहों को खत्म करने और फर्जी खबरों की पहचान करने के लिए महानगर के एक संस्थान के विशेषज्ञों की टीम एक एप्लीकेशन बना रही है जो बताएगी कि कोई संदेश फर्जी है अथवा नहीं. इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी- दिल्ली (आईआईआईटी-डी) के सहायक प्रोफेसर पोन्नुरांगम कुमारगुरु टीम का नेतृत्व कर रहे हैं जो ऐप विकसित कर रही है. Also Read - Fact Check: UPSC सिविल परीक्षा में सामान्य वर्ग के छात्रों की उम्र सीमा होगी 26 साल, जानें वायरल दावे का सच...

Also Read - WhatsApp Advanced Search: WhatsApp में आया शानदार फीचर और कई नए इमोजी, मजेदार होगी चैटिंग

फेसबुक तैयार कर रही 7500 समीक्षक, आपत्तिजनक पोस्ट की करेंगे समीक्षा Also Read - Fact Check: क्या इस योजना के तहत सरकार सभी खाताधारकों को हर माह दे रही तीन हजार रुपये? जानिये क्या है हकीकत...

व्हाट्सएप्प पर अफवाहों से भीड़ के गुस्से जैसी कई घटनाएं हुई हैं, जिसमें महाराष्ट्र के रेनपाडा गांव में बच्चा चोर होने के संदेह में पांच लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. हाल में कर्नाटक के बीदर में भीड़ ने तीन लोगों को बच्चा चोर होने के संदेह में पीट-पीटकर जख्मी कर दिया.

Facebook 18 साल से कम के यूजर्स को नहीं दिखाएगा हथियारों से जुड़े ऐड

प्रोफेसर का मानना है कि वर्तमान परिदृश्य में एप्लीकेशन उपयोगी साबित होगा जब कई ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, जिसमें लोग व्हाट्सएप्प पर फैली अफवाह के कारण हुई हिंसा का शिकार बन गए. उन्होंने कहा, ” हम काफी संख्या में डाटा इकट्ठा कर रहे हैं और लोगों से 9354325700 नंबर पर संदेश फैलाने के लिए कहा है. इस संदेश का विश्लेषण किया जाएगा और इसी मुताबिक हम इस तरह के संदेश पर लगाम लगाने के लिए मॉडल बनाएंगे.”

अभद्र टिप्पणी होने पर अकाउंट ब्लॉक कर सकता है ट्विटर, 10 अगस्त से संभलकर करें ट्वीट

(इनपुट- एजेंसी)