नई दिल्ली: फेसबुक ने आखिरकार विवादास्पद ‘ट्रेंडिंग’ फीचर को खत्म करने का फैसला कर लिया है, ताकि इसकी जगह पर भविष्य के समाचार अनुभव को लाया जा सके, जिसमें ब्रेकिंग न्यूज नोटिफिकेशन भी शामिल किया जा सकता है. फेसबुक के समाचार सामग्री प्रमुख ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “हम अगले हफ्ते से ट्रेडिंग को फेसबुक से हटा लेंगे और ट्रेंड्स एपीआई पर निर्भर सामग्री और थर्ड-पार्टी एकीकरण को भी हटा लेंगे. Also Read - पक्षपात का आरोप झेल रहीं अंखी दास ने दिया फेसबुक से इस्तीफा, जानिए क्या है पूरा मामला

फेसबुक ने 2014 में ट्रेंडिंग फीचर पेश किया जिसका लक्ष्य लोगों को समाचार विषयों को खोजने में मदद करना था जो पूरे समुदाय में लोकप्रिय थे. इस फीचर में कई शीर्षकों का संग्रह दिखाया जाता था, लेकिन सोशल नेटवर्किं ग दिग्गज को जल्द ही राजनीतिक पूर्वाग्रह के आरोपों का सामना करना पड़ा. Also Read - Data Controversy: संसद की समिति ने फेसबुक, ट्विटर को भेजा समन

एनबीसी न्यूज की रिपोर्ट में बताया गया कि शुरुआत में शीर्षक संपादकों द्वारा चुने जाते थे और परियोजना के एक पूर्व ठेकेदार ने दावा किया कि फेसबुक इस फीचर का प्रयोग उदारवादी मुद्दों को बढ़ाने और कट्टर सोच को दबाने के लिए करती थी. फेसबुक ने बाद में संपादकों को हटा दिया और संतुलन बनाने के लिए एक एल्गोरिदम का इस्तेमाल किया, जो यह फैसला लेता था कि किन शीर्षकों को ट्रेंडिंग खंड में रखा जाए. लेकिन एल्गोरिदम द्वारा शीर्षकों की छंटाई करने से कई फर्जी खबरें और आपत्तिजनक सामग्री भी फेसबुक के ट्रेंडिंग फीचर में जगह पाने लगी थी. Also Read - Facebook Neighborhoods Feature: Facebook ला रहा खास फीचर, पड़ोसियों के बारे में जानना होगा आसान