सैन फ्रांसिस्को: माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ ने फेशियल रिकग्निशन प्रौद्योगिकी सरकार को बेचने से रोकने के निर्णय को वापस लेने का आग्रह करते हुए कहा है कि यह कदम बहुत क्रूर होगा, क्योंकि दुर्लभ बीमारियों का इलाज जैसे अच्छे कामों में बाधा उत्पन्न हो सकती है. रविवार रात बिजनेस इनसाइडर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, स्मिथ ने कहा कि मानवीय मूल्यों को देखते हुए यह कदम क्रूर होगा.


यह कदम पिछले महीने लगभग 85 मानवाधिकार संगठनों के माइक्रोसॉफ्ट, अमेजन और गूगल को पत्र लिखकर उनसे मांग की कि कंपनियों को फेशियल रिकग्निशन सरकार को बेचना बंद कर देना चाहिए, क्योंकि इससे जासूसी होगी. माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य विधि अधिकारी स्मिथ के हवाले से कहा गया है, “मुझे यह तर्क समझ नहीं आता कि कंपनियों को किसी भी उद्देश्य के लिए किसी भी सरकारी समिति को लाइसेंस देने से बचना चाहिए.

भारत एक ऐसा देश जिसने दुनिया भर के सताए हुए लोगों को शरण दी: संयुक्त राष्ट्र

उन्होंने कहा, सभी सरकारी उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध बहुत ज्यादा हो जाता है.” दिसंबर में अपने एक ब्लॉग में स्मिथ ने लिखा था कि तेज उन्नत फेशियल रिकग्निशन प्रौद्योगिकी के दुरोपयोग के लिए क्षमताएं बढ़ाने से दुनियाभर की सरकारों को इस प्रौद्योगिकी को लागू करने के लिए नियम बनाने की जरूरत है. उन्होंने कहा, कार्रवाई का समय आ गया है. उन्होंने कहा कि इस प्रौद्योगिकी का उपयोग करते समय उद्योग को संयम बरतने की जरूरत है. इस प्रौद्योगिकी के फायदों के बारे में माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष ने बताया कि नई दिल्ली पुलिस ने हाल ही में इस प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर चार दिनों में ही 3,000 लापता बच्चों को खोज निकाला था. (इनपुट भाषा)

कुकीमाइनर की i-Phone में सेंध, खतरे में आपका पासवर्ड और क्रेडिट कार्ड, हो जाएं अलर्ट