नई दिल्ली : भारत में करीब दस लाख लोग व्हॉट्सएप पेमेंट सेवा के ट्रायल रन का  परीक्षण कर रहे हैं. कंपनी के एक अधिकारी ने ये जानकारी देते हुए कहा कि, वो भारत सरकार, एनपीसीआई और कई बैंकों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. जिससे इसका विस्तार और लोगों तक किया जा सके. गौरतलब है कि व्हॉट्सएप को यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के जरिये वित्तीय लेनदेन को बैंकों के साथ गठजोड़ करने के लिए एनपीसीआई की अनुमति मिल गई है.

व्हॉट्सएप पेमेंट सेवा को पेटीएम से चुनौती मिलेगी. इसका पिछले कुछ माह से बीटा परीक्षण चल रहा है. फेसबुक की इकाई व्हॉट्सएप ने अभी तक अपनी सेवा की शुरुआत की तारीख घोषित नहीं की है, लेकिन इसके अगले कुछ सप्ताह में शुरू होने की उम्मीद है. व्हॉट्सएप के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि वर्तमान में करीब दस लाख लोग व्हॉट्सएप भुगतान सेवा का परीक्षण कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि, हमें काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है. लोग एक संदेश भेजने जैसे सुविधाजनक तरीके से पैसा भेजने की सुविधा का आनंद ले रहे हैं.

प्रवक्ता ने कहा कि व्हॉट्सएप भारत सरकार, नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन आफ इंडिया (एनपीसीआई) और कई बैंकों के साथ मिलकर काम कर रही है, जिससे अधिक से अधिक लोगों तक इस फीचर को पहुंचाया जा सके और देश की डिजिटल अर्थव्यवस्था को समर्थन दिया जा सके. उल्लेखनीय है कि व्हॉट्सएप को यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के जरिये वित्तीय लेनदेन को बैंकों के साथ गठजोड़ करने के लिए एनपीसीआई की अनुमति मिल गई है.

पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने इससे पहले इसी साल आरोप लगाया था कि व्हॉट्सएप के भुगतान प्लेटफार्म में उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षा जोखिम है और यह दिशानिर्देशों का अनुपालन नहीं कर रही है. भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी भुगतान प्रणाली परिचालकों के लिए यह अनिवार्य किया है कि भुगतान से संबंधित आंकड़े सिर्फ भारत में स्टोर किए जा सकते हैं. इसे पूरा करने के लिए उन्हें छह महीने का समय दिया गया है.
(इनपुट एजेंसी)