Google celebrates Amrita Pritam’s 100th birth anniversary with it doodle: Google अक्सर किसी खास शख्स को याद करते हुए डूडल तैयार करता है और आग गूगल ने अपने डूडल को अमृता प्रीतम (Who is Amrita Pritam) की याद में तैयार किया है. अमृता प्रीतम पंजाबी के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक थी. गूगल आज अपने डूडल के जरिए उनकी 100वीं बर्थ बर्थ एनिवर्सरी को सेलिब्रेट कर रहा है.  पंजाब के गुजरावाला जिले में पैदा हुईं अमृता प्रीतम को पंजाबी भाषा की पहली कवयित्री माना जाता है.

गूगल ने अपने डूडल में Amrita Pritam की एक पिक्चर तैयार की है जिसमें वह कुछ लिखते हुए देखी जा सकती है. इस डूडल पर क्लिक करके आपको उनसे सबंधित काफी जानकारी मिल जाएगी.

 

 

अमृता प्रीतम का जन्म 31 अगस्त 1919 को गुजरावाला में हुआ था, जो पाकिस्तान में पड़ता है. उनका बचपन लाहौर में बीता और शिक्षा भी वहीं हुई. उन्होंने कुल मिलाकर लगभग 100 पुस्तकें लिखी हैं जिनमें उनकी चर्चित आत्मकथा ‘रसीदी टिकट’ भी शामिल है. अमृता प्रीतम उन साहित्यकारों में थीं जिनकी कृतियों का अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ.

 

अपने अंतिम दिनों में अमृता प्रीतम को भारत का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्मविभूषण भी प्राप्त हुआ. उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से पहले ही अलंकृत किया जा चुका था. उन्हें अपनी पंजाबी कविता  अज्ज आखाँ वारिस शाह नूँ  के लिए बहुत प्रसिद्धी प्राप्त हुई. इस कविता में भारत विभाजन के समय पंजाब में हुई भयानक घटनाओं का अत्यंत दुखद वर्णन है और यह भारत और पाकिस्तान दोनों देशों में सराही गयी.