सैन फ्रांसिस्को/नई दिल्ली. गूगल के लिए काम करने वाले तीसरे पक्ष यानी कॉन्ट्रैक्टर्स स्मार्टफोन, होम स्पीकर और सुरक्षा कैमरों पर गूगल असिस्टेंट के माध्यम से आपके बेडरूम की बातचीत को गुप्त रूप से सुन रहे हैं. एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस तरह की रिकॉर्डिग से यूजर्स की गोपनीयता पर गंभीर सवाल उठते हैं. बेल्जियम के ब्रॉडकास्टर वीआरटी एनडब्ल्यूएस के अनुसार, गूगल होम स्पीकर के साथ यूजर्स की बातचीत रिकॉर्ड की जा रही है और ऑडियो क्लिप सब-कॉन्ट्रैक्टर्स को भेजे जा रहे हैं, जो गूगल की स्पीच रिकगनिशन में सुधार के लिए ऑडियो फाइलों को बाद में उपयोग करने के लिए ट्रांसक्रिप्ट कर रहे हैं. Also Read - NCERT कक्षा 1 से 12वीं तक की बुक मिलेंगी ऑडियो फॉर्मेट में, जानें Google Assistant के जरिए एक्सेस करने के तरीके 

एक व्हिसिलब्लोअर की सहायता से वीआरटी एनडब्ल्यूएस गूगल असिस्टेंट के माध्यम से रिकॉर्ड किए गए एक हजार से अधिक अंशों को सुनने में सक्षम रहा. बुधवार को जारी हुई रिपोर्ट में कहा गया, “इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील जानकारी साफ सुन सकते हैं. इससे बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है.” वीआरटी ने कहा, “बहुत से पुरुषों ने पोर्न की खोज की, पति-पत्नी के बीच बहस, और यहां तक कि एक मामला जिसमें एक महिला आपातकालीन स्थिति में थी. इन सभी बातों का पता हमें रिकॉर्डिग से चला.” Also Read - Google Doodle: पिछले दो सप्ताह से कोरोना वीरों को ऐसे सलाम कर रहा है गूगल, यहां देखिए हर डूडल की तस्वीर

इससे भी ज्यादा चिंताजनक बात यह है कि व्हिसलब्लोअर ने वीआरटी को जिस प्लेटफॉर्म को दिखाया था, उसके पास पूरी दुनिया की रिकॉर्डिग मौजूद थी. अंतर्राष्ट्रीय डेटा निगम (आईडीसी) के अनुसार भारत में, अमेजॅन इको ने 2018 में 59 प्रतिशत शेयर के साथ भारतीय स्मार्ट स्पीकर बाजार का नेतृत्व किया, इसके बाद गूगल होम 39 प्रतिशत यूनिट शेयर के साथ मौजूद रहा. देश में 2018 में कुल 753 हजार इकाइयां भेजी गईं. गूगल होम के मिनी व अन्य सभी स्मार्ट स्पीकर मॉडल बिक गए और वह एक शीर्ष विक्रेता के रूप में उभरा. Also Read - Lenovo ने लॉन्च किए तीन स्मार्ट डिवाइस, आपकी आवाज से होंगे कंट्रोल