Google Doodle on Hans Christian Gram: सर्च इंजन Google अक्सर समाज में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले लोगों को अपने Doodle के जरिए याद करता है। ऐसे ही आज गूगल ने अपने डूडल को डेनिश माइक्रोबायोलॉजिस्ट (Microbiologist) Hans Christian Gram को समर्पित किया है। गूगल अपने डूडल के जरिए आज Hans Christian Gram के 166वीं बर्थ एनिवर्सरी को सेलिब्रेट कर रहा है। Hans Christian एक डेनिश जीवाणु वैज्ञानिक थे।
डेनिश माइक्रोबायोलॉजिस्ट ने 1878 में अपनी M.D. की डिग्री यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगन से हासिल की। इसके बाद उन्होंने फार्माकोलॉजी और बैक्टीरियोलॉजी के अध्यन के लिए यूरोप में 1883 से 1885 तर यात्रा की। इस दौरान बर्लिन में 1884 में बैक्टीरिया के वर्गीकरण के तरीके को उन्होंने निजात किया। उनके इसी काम के लिए उन्हें आज भी दुनियाभर में याद किया जाता है।

 

 

Hans Christian Gram ने बैक्टीरिया को उनके कैमिकल रिएक्शन और फिजिकल कंडीशन के आधार पर बांटा था। बैक्टीरिया की भीतरी झिल्ली के आधार पर और कैमिकल रिएक्शन और फिजिकल कंडीशन की बदौलत उन्होंने इनको अलग-अलग रूप में बांटा। Hans Christian Gram को बैक्टीरिया की शुरुआती पहचान के लिए ग्राम स्टेन (Gram Stain) के लिए जाना जाता है। इस कला को डेनिश अतिथि कलाकार मिकेल सोमर द्वारा डिजाइन किया गया है।

 

 

गूगल ने अपने डूडल के जरिए Hans Christian Gram के प्रयोग से लेकर माइक्रोस्कोप और बैक्टीरिया सैंपल को दिखाया है। यह एनिमेटिड डूडल काफी शानदार दिखाई दे रहा है। Hans Christian Gram का जन्म 13 सितम्बर 1853 को हुआ था और वह मूल रूप से डेनमार्क के निवासी थे।आपको बता दें कि Gram stain एक ऐसा तरीका है जिसकी मदद से बैक्टीरिया को अलग-अलग प्रजातियों में बांटा जा सकता है। Hans Christian Gram का 14 नवंबर 1938 को निधन हो गया।