Google समय-समय पर सिक्योरिटी कारणों के चलते अपने प्लेटफॉर्म पर से ऐप्स और गेम्स को हटाता रहता है. हाल ही में हमने आपको बताया था कि गूगल ने एडवेयर और मालवेयर के शक से कुछ पॉप्युलर गेम्स को प्ले स्टोर से हटा दिया था. अब एक लेटेस्ट रिपोर्ट आई है, जहां पता चला है कि सिक्योरिटी कारणों के चलते गूगल ने अपने प्ले स्टोर से 85 ऐप्स को हटा दिया है. IANS की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रेंड माइक्रो में सिक्योरिटी रिसर्चरों ने इन ऐप्स के अंदर विशेष रूप से परेशानी बढ़ाने वाले एडवेयर को छुपा हुआ पाया था इस जांच के सामने आने के बाद गूगल ने यह कदम उठाया है.

Trend Micro में काम कर रहे एक Mobile Threat Response (MTR) इंजीनियर Ecular Xu ने शुक्रवार को एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा था कि, “हमें गूगल प्ले पर एडवेयर के संभावित रियल लाइफ इंपैक्ट का एक और उदाहरण मिला है. ट्रेंड माइक्रो इसे AndroidOS_Hidenad.HRXH के रूप में पहचानता है.”

 

 

IANS की रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि Xu ने यह भी कहा कि, “यह विज्ञापन प्रदर्शित करते हैं, इन्हें बंद करना मुश्किल है. यह यूजर्स के व्यवहार और समय-आधारित ट्रिगर्स के माध्यम से पहचान का पता लगाने के लिए अद्वितीय तकनीकों को नियुक्त करता है.”

Trend Micro के मुताबिक, इस तरह से प्रभावित करने वाली ज्यादातर ऐप्स में फोटोग्राफी और गेमिंग ऐप्स शामिल थी, जिन्हें आठ लाख से अधिक बार डाउनलोड किया जा चुका था. सुपर सेल्फी, कॉस कैमरा, पॉप कैमरा और वन स्ट्रोक लाइन पजल उन 85 ऐप्स में सबसे पॉप्युलर ऐप्स हैं, जिन्हें ट्रेंड माइक्रो ने एडवेयर से संक्रमित होने के रूप में खोजा था.

 

 

इससे पहले जून में सिडनी यूनिवर्सिटी और CSIRO’s Data61 के रिसर्चस ने दावा किया था कि Google Play Store पर 2000 से ज्यादा खतरनाक और फर्जी ऐप मौजूद हैं. रिसर्चस का दावा था कि इन ऐप में से कई ऐप यूजर्स धड़ल्ले से इस्तेमाल करते हैं. रिसर्च करताओं ने Google Play Store में मौजूद करीब दस लाख ऐप पर टेस्ट किया था. इन ऐप में कई प्रकार के खतरनाख मालवेयर मौजूद थे. रिसर्च ने दो साल की स्टडी के दौरान पाया कि गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद खतरनाख ऐप में से कई ऐप पॉपुलर गेमिंग ऐप थे. उन्होंने गूगल एंड्रॉएड यूजर्स को इन ऐप को डाउनलोड करने से पहले सावधानी रखने को भी कहा था.