भारत सरकार अब आपके खोए हुए मोबाइल को ट्रैक करने में मदद करेगा। केंद्रीय टेलीकॉम मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद ने एक नई वेबसाइट लॉन्च की है जहां आप अपने खोए हुए फोन की रिपोर्ट कर सकते हैं और उसे ट्रैक कर सकते हैं। इस व्यवस्था को फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर महाराष्ट्र में शुरू किया गया है। महाराष्ट्र में यह प्रोजेक्ट 13 सितंबर से शुरू हो गया है। इस प्रोजेक्ट के सफल होने पर इसे बाद में पूरे देश में लागू किया जाएगा।
डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम्युनिकेशन ने कहा कि वह इस सर्विस पर 2017 से काम कर रही थी। टेलीकॉम मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इसी पर सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (CEIR) की वेबसाइट लॉन्च की है। यह एक सेंट्रालाइज्ड डाटाबेस है जिसमें कई अरब मोबाइल डिवाइसों के IMEIs होंगे।

How Government plans to track lost mobile phones in India

15 डिजिट यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर को इंटरनेशनल मोबाइल एक्विपमेंट आइडेंटिटी के तौर पर भी जाना जाता है। इसकी मदद से आपके डिवाइस को ट्रैक किया जाएगा। अगर आपको फोन खो गया है तो आपको फोन खोने की एक कंप्लेन करवानी होगी। फोन खोने की FIR होने के बाद आपको इसकी एक कॉपी DoT को देनी होगी जो आपके IMEI नंबर को आइडेंटिफाई करके उसे ब्लैकलिस्ट कर देगी।

इसके बाद उस खोए हुए डिवाइस को किसी भी मोबाइल नेटवर्क के सिग्नल नहीं मिलेंगे और वह इस फोन का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा। हालांकि इससे आपको खोया हुए फोन तो नहीं मिलेगा, लेकिन इससे कोई शख्स आपका फोन इस्तेमाल नहीं कर पाएगा। इससे फोन चोरी होने वाली घटनाओं में भी कमी देखी जा सकती है, क्योंकि ऐसा होने पर कोई भी पुराना फोन खरीदना पसंद नहीं करेगा। रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि इस लॉन्च के पीछे हमारी कोशिश सुरक्षा को पुख्ता करना है।