इंटरनेट के इस दौर में आज लगभग हर छोटे बड़े काम के लिए एक खास ऐप उपलब्ध है. भारतीय स्मार्टफोन यूजर्स न्यूज, गेम्स और सोशल मीडिया ऐप्स को सबसे ज्यादा अपने मोबाइल में इंस्टॉल करते हैं. इससे ये तीनों श्रेणियां शीर्ष तीन में जगह बनाने में कामयाब हुए हैं. टेक कंपनी मो मैजिक टेक्नॉलजी द्वारा की गई एक रिसर्च में यह जानकारी मिली है. Also Read - VIDEO: नोएडा के DLF Mall of India की ढह गई छत, वीडियो में दिखा धुआं ही धुंआ

‘लाइफस्टाइल इनसाइट ऑफ एप यूजर्स इन इंडिया’ नाम की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि किस तरह भारतीय ऐप यूजर्स की पसंद बदल रही है और कौन सा यूजर किस ऐप को पसंद करता है. मो मैजिक की ये रिपोर्ट डाटा मैनेजमेंट प्लेटफॉर्म के तहत बनाई गई है. इस रिपोर्ट में पाया गया है कि एक भारतीय व्यक्ति के स्मार्टफोन में करीब 50 एप्स इंस्टाल होते है, जिसमें प्री इंस्टाल एप्स भी शामिल हैं. Also Read - टिकटॉक और हेलो बंद होने से चीनी कंपनी को बड़ा झटका, 45 हज़ार करोड़ का नुकसान

इस रिपोर्ट में यह भी पाया गया है कि भारतीय पुरुषों के मोबाइल में करीब 50.5 एप्स जबकि महिलाओं के मोबाइल में 49.8 एप्स इंस्टाल होते हैं. रिपोर्ट में बताया गया कि न्यूज से जुड़े एप्स में 2017 की चौथी तिमाही के मुकाबले 2018 की चौथी तिमाही में 94 फीसदी की उछाल दर्ज की गई है. वहीं सोशल मीडिया से जुड़े एप्स में 80 फीसदी की तेजी देखी गई है. गेमिंग एप्स की बात करें तो बीते एक साल में इसमें भी 52 फीसदी की उछाल दर्ज की गई है. Also Read - कोरोना महामारी के दौरान UN की कार में शारीरिक संबंध बनाता दिखा शख्स, अधिकारी बोले- होगी जांच

कंपनी ने बताया कि न्यूज से जुड़े एप्स में सबसे ज्यादा फूड, ड्रिंक, हेल्थ, फिटनेस और ऑटोमोबाइल के एप्स इंस्टॉल किए गए हैं. ऑटो और मौसम से जुड़ें एप्स के अलावा सोशल एप यूजर्स का सबसे अधिक रुझान डेटिंग एप में पाया गया है. गेमिंग एप की बात करें तो इस सेंगमेंट में सबसे ज्यादा पैरेटिंग एप को इंस्टॉल किया गया है. इसके बाद कॉमिक्स और ब्यूटी एप का इस्तेमाल भी लोग कर रहे हैं.

मो मैजिक टेक्नॉलजी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुण गुप्ता ने कहा, “न्यूज के क्षेत्र में भारत 10 भाषाओं में सबसे आगे है. यहां के उपभोक्ता हर वर्ग के हैं जो न्यूज एप देखते हैं. यह सेगमेंट दूसरे सेगमेंट के मुकाबले आगे भी तेजी से बढ़ता रहेगा. इस तेजी से साफ पता चलता है कि आने वाले दिनों में भी कंटेट ही विजेता होगा.”

(इनपुट एजेंसी)