इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) का Chandrayaan-2 मिशन 22 जुलाई 2019 को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन सेंटर से लॉन्च किया गया था। इस मीशन में Chandrayaan-2 को भारत के सबसे शाक्तिशाली Mark III (GSLV-Mk III) रॉकेट से लॉन्च किया गया है। इस मिशन के लिए 976 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। अब ISRO ने एक लेटेस्ट ट्वीट किया है, जिसमें चंद्रयान-2 में लगे LI4 कैमरे से ली गईं धरती की तस्वीरें शेयर की गई है। अंतरिक्ष से ली गईं धरती की तस्वीरों के साथ कई ट्वीट्स करते हुए इसरो ने कहा, “चंद्रयान-2 विक्रमलैंडर द्वारा ली गईं धरती की तस्वीरों का पहला सेट। चंद्रयान-2 LI4 कैमरे ने 17.37 UT पर 3 अगस्त 2019 को धरती को देखा।”

IANS की रिपोर्ट के मुताबिक, इसरो ने केवल एक नही बल्कि 17.29, 17.32, 17.34 और 17.37 UT पर ली गईं पृथ्वी की कुछ अन्य तस्वीरें लगातार पोस्ट की है। इसरो ने कहा था कि शुक्रवार को दोपहर 3.27 बजे चंद्रयान-2 को चौथी कक्षा में पहुंचाने की गतिविधि सफलतापूर्वक संपन्न हो गई है। इसरो ने यह भी कहा कि चंद्रयान के सभी मानक सामान्य हैं।

चंद्रयान को पांचवीं कक्षा में पहुंचाने की गतिविधि 6 अगस्त को दोपहर 2.30 बजे से 3.30 बजे के बीच सेट की गई है। बता दें कि चंद्रयान-2 को 22 जुलाई को 170 गुणा 45,475 किलोमीटर की एक अंडाकार कक्षा में भारत ने भारी रॉकेट जीएसएलवी-मार्क3 के जरिए प्रवेश कराया था।

आपको याद दिला दें कि यह भारत की तरफ से चांद पर जाने का दूसरा मिशन है। इससे पहले भारत की ओर से चांद पर जाने का सबसे पहला Chandrayaan-1 के नाम से लॉन्च किया गया था। इसे इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन ने आज से लगभग 11 साल पहले अक्टूबर 2008 में लॉन्च किया था और यह मिशन अगस्त August 2009 तक चला था। चंद्रयान-2 से भेजी हुई तस्वीरें हमें च्रंदयान-1 की याद दिलाती है, जब उस मिशन पर गए Rakesh Sharma ने भारत के लिए अंतरिक्ष से एक मैसेज भी छोड़ा था। बता दें कि Rakesh Sharma अंतरिक्ष में जाने वाले पहले भारतीय थे। उन्होंने अंतरिक्ष में पहुंचने के बाद उस समय प्रधान मंत्री रही Indira Gandhi से बात की और कहा कि भारत अंतरिक्ष से देखने में ‘Sare jahan se accha’ लगता है।