नई दिल्ली: अगर आप पेटीएम, ओलामनी, मोबिक्विक जैसे मोबाइल वॉलेट का इस्तेमाल करते हैं तो यह खबर आपके काम की है. भारतीय रिजर्व बैंक ने प्रीपेड वॉलेट ग्राहकों के लिए अनिवार्य नो योर कस्टमर (KYC) पूरा करने की समयसीमा को आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया है. KYC की प्रक्रिया पूरी करने की आखिरी डेडलाइन 28 फरवरी है. बता दें कि KYC के लिए पहले 31 दिसंबर, 2017 तक का समय दिया गया था. बाद में इस समयसीमा को बढ़ाकर 28 फरवरी, 2018 कर दिया गया था.

वॉलेट में बचे पैसे का कर सकते हैं इस्तेमाल

अब आप सोच रहे हैं की वॉलेट में बची आपकी धन राशि का क्या होगा. तो आपको इस बात की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. आरबीआई ने ऐसे ग्राहकों को राहत दी है जिनके वॉलेट या प्रीपेड भुगतान इंस्ट्रूमेंट (पीपीआई) में कुछ राशि पड़ी है. आप वॉलेट में बची धन राशि का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा यूजर्स अपने पैसे को बैंक खाते में भी ट्रांसफर कर सकेंगे, लेकिन अगर आप किसी दूसरे आदमी के ई-वॉलेट में रुपये ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो आपको KYC डिटेल्स भरनी होगी.

यह भी पढ़ें: इस साल सबसे बड़ा स्मार्टफोन लॉन्च करेगी एप्पल, 6.5 इंच हो सकता है डिसप्ले

आपका अकाउंट काम करना बंद कर देगा

आरबीआई के इस फैसले का बड़ा असर पेटीएम, मोबिक्विक, ओला मनी और ऐमजॉन पे जैसे कंपनियों पर पड़ेगा.  अब जो ग्राहक KYC नहीं करवाएंगे, उनका अकाउंट काम करना बंद कर देगा. ग्राहक कम न हों, इसलिए कंपनियां ऑफर भी दे रही हैं.

ऐसे करवाएं KYC:
उपभोक्ता किसी भी ऐप पर जाकर केवाईसी के आइकॉन पर क्लिक कर. आप अपनी डिटेल्स भर सकते हैं इसमें आप से आपका आधार नंबर मंगा जाएगा. कंपनी अपने प्रतिनिधि को भेजने के लिए आपके घर या ऑफिस का पता और पिनकोड मांगेगी. अगले 2 से 4 दिनों में कंपनी का प्रतिनिधि आपके पते पर आकर डॉक्युमेंट्स का वेरिफिकेशन करेगा.