Microsoft (माइक्रोसॉफ्ट) ने यह स्वीकार किया है कि थर्ड-पार्टी कांट्रैक्टर्स स्काइप और वर्चुअल असिस्टेंट कोर्टाना पर की गई बातचीत को सुन रहे हैं। यह खुलासा तब हुआ, जब मदरबोर्ड ने पाया कि कांट्रैक्टर्स दोनों ही सेवाओं के ऑडियो को सुन रहे हैं, जिसमें माइक्रोसॉफ्ट ग्राहकों के संवेदनशील और निजी बातचीत भी शामिल थी।

माइक्रोसॉफ्ट के प्रवक्ता ने बुधवार को मदरबोर्ड को बताया, “हाल ही में उठाए गए सवालों को देखते हुए हमें अहसास हुआ है कि हम यह बताकर बेहतर काम कर सकते हैं कि मनुष्य कभी-कभी इस सामग्री की समीक्षा करते हैं।” प्रवक्ता ने आगे कहा, “हमने अधिक स्पष्टता के लिए अपने प्राइवेसी स्टेटमेंट और प्रोडक्ट एफएक्यू को अपडेट किया है, और आगे भी सुधार के अवसरों की जांच करते रहेंगे।” अपडेट किए गए प्राइवेसी स्टेटमेंट में कहा गया है कि मनुष्य द्वारा समीक्षा का उपयोग कंपनी आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) सिस्टम्स को सुधारने, प्रशिक्षित करने और बनाने में किया जाता है।

स्काइप ट्रांसलेटर के नए एफएक्यू में कहा गया, “इसमें माइक्रोसॉफ्ट कर्मचारियों या वेंडर्स द्वारा ऑडियो रिकार्डिग का अनुलेखन किया जा सकता है, जो यूजर्स की गोपनीयता की रक्षा के लिए यूरोपीय कानून और अन्य जगहों पर निर्धारित गोपनीयता मानक के आधार पर डिजाइन की गई प्रक्रियाओं के अधीन है।”

कुछ दिनों पहले आई एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि Google के लिए काम करने वाले थर्ड पार्टी कांट्रैक्टर्स गूगल असिस्टेंट के माध्यम से यूजर्स की बातें सुन रहे हैं। इस रिपोर्ट में बताया गया था कि यूजर्स की निजी बाते सुनना और उन्हें रिकॉर्ड करना उनकी प्राइवेसी पर गंभीर खतरा हैं।

(इनपुट आईएएनएस हिंदी से भी)

स्मार्टफोन, मोबाइल रिव्यू हिंदी, ऐप्स, टेलीकॉम और टेक जगत की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें…

BGR India हिन्दी के फेसबुक और ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें…