यात्रियों की सुरक्षा को बढ़ाते हुए देश की प्रमुख कैब सेवा प्रदाता कंपनी ओला ने रियल टाइम राइड निगरानी प्रणाली की शुरूआत की है. ओला ने एक बयान में कहा, “बेंगलुरू, मुंबई और पुणे में ग्राहकों की सुरक्षा के लिए रियल टाइम निगरानी प्रणाली ओला गार्जियन को पायलट आधार पर लांच किया गया है.”

यह सिस्टम ऑर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) और मशीन लर्निंग टूल्स पर आधारित है, जिसकी शुरूआत दिल्ली और कोलकाता में अक्टूबर से और देश के अन्य शहरों में इस साल के अंत से की जाएगी. गार्जियन परियोजना के तहत, सभी ट्रिप्स की एआई-संचालित प्रणाली से निगरानी की जाएगी तथा रूट बदलने, अप्रत्याशित रूप से बीच में ट्रिप को रोकने जैसे संकेतकों का विश्लेषण किया जाएगा.

ओला की सेफ्टी रेस्पॉन्स टीम सुरक्षा संबंधी चूक से निपटने के लिए तैयार रहेगी. इससे पहले कई ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, जब राइड मुहैया करानेवाली कंपनियों के ड्राइवरों ने सुनसान रास्ते पर ले जाकर महिला सवारियों से छेड़छाड़ और दुष्कर्म जैसी घटनाओं को अंजाम दिया है.

ओला ने कहा कि वह राज्य सरकारों के साथ मिलकर उन रास्तों की मैपिंग का काम कर रही है, जिधर ले जाना सुरक्षित नहीं है, ताकि अपनी प्रणाली के प्रदर्शन को सुधार सके. कंपनी के उपाध्यक्ष अंकुर अग्रवाल ने एक बयान में कहा, “गार्जियन जैसी परियोजनाओं के द्वारा हम परिवहन उद्योग में यात्रियों की सुरक्षा में सुधार का काम कर रहे हैं.