पिछले साल दिसंबर के आखिर में Paytm ने अपनी पोस्टपेड सर्विस को लॉन्च किया था। यह सर्विस काफी हद तक बैंक के क्रेडिट सिस्टम पर बेस्ड है। इस सर्विस के तहत यूजर्स एडवांस में शॉपिंग या पेमेंट कर उन पैसों को बाद में लौटा सकते हैं। यह काफी हद तक आपके क्रेडिट कार्ड सिस्टम के जैसा है। भले ही इस सर्विस को लॉन्च हुए कुछ महीने बीत गए हैं, लेकिन अभी भी इस सर्विस से कई लोग वाकिफ नहीं हैं। ऐसे में यदि आप भी इस सर्विस के बारे में जानते नहीं हैं, तो हम आपको Paytm Postpaid सर्विस के बारे में हर प्रकार की जानकारी देने जा रहे हैं। आइए जानते हैं कि क्या है Paytm Postpaid सर्विस और इसके लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन।

Paytm Postpaid क्या है?

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया है कि Paytm Postpaid सर्विस काफी हद तक क्रेडिट कार्ड सर्विस के जैसी सर्विस है। यहां आपको पहले से निर्धारित क्रेडिट लिमिट खर्च करने को मिलती है। यह क्रेडिट लिमिट यूजर-टू-यूजर निर्भर करती है। इनमें वॉलेट बैलेंस, Paytm प्लेटफॉर्म पर किया जाने वाला मंथली खर्चा और कुछ अन्य फेक्टर्स शामिल हैं। यह क्रेडिट लिमिट समय के साथ यूजर के द्वारा किए खर्चों के हिसाब से बढ़ाती जाती है।

क्रेडिट कार्ड में मिलने वाली Due Date (भुगतान की तारीख) की तरह Paytm Postpaid में भी एक Due Date होती है, जो कि हर महीने की 7वीं तारीख होती है। आपके खर्चे का एक टोटल बिल आपको Due Date से 15 दिनों पहले भेज दिया जाता है। यदि आप Due Date से पहले इस बिल का पेमेंट करने पर असफल रहते हैं तो आपका अकाउंट अस्थाई रूप से ब्लॉक कर दिया जाएगा और आपके बिल के ऊपर लेट पेमेंट चार्ज जोड़ दिया जाएगा। आप जैसे ही इस पेंडिंग बिल का भुगतान करेंगे Paytm आपके अकाउंट को दोबारा एक्टिवेट कर देगा। आप इस बिल की पेमेंट डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग या UPI के द्वारा कर सकते हैं।

ऐसे करें अप्लाई

Paytm Postpaid के लिए अप्लाई करने का तरीका काफी आसान है। इसके लिए सबसे पहले आपको अपने अकाउंट का KYC कराना होगा। यदि आपका KYC पहले से कंप्लीट है, तो आपको अपने Paytm पर जाना होगा और आपको टॉप राइट कॉर्नर पर ‘Paytm Postpaid’ का ऑप्शन दिखाई देगा। यहां क्लिक कर आपको केवल अपनी डिटेल्स चेक करनी होगी, जिनमें नाम, ईमेल, फोन नंबर और कुछ अन्य डिटेल शामिल होगी।

अब आपको अपनी एप्लिकेशन को बस सबमिट करना होगा और आपका Paytm Postpaid अकाउंट एक्टिवेट हो जाएगा। इसके बाद आपको अपने किसी प्रकार के डॉक्युमेंट जमा नहीं करने होंगे। आपको मिलने वाली क्रेडिट लिमिट आपके खर्चों के अनुसार बढ़ते जाएगी।