भारत में डिजिटल पेमेंट का बाजार लगातार बढ़ता जा रहा है और इस कड़ी सरकार एक और नया पेमेंट सॉल्यूशन लेकर आ रही है. आज यानि 2 अगस्त को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI को लॉन्च करने वाले हैं. इस पेमेंट सॉल्यूशन को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लॉन्च किया जाएगा और इसकी खासियत है कि यह यूजर्स को कई शानदार सुविधा प्रदान करेगा. लॉन्च से पहले जानते हैं क्या है डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI और इसके तहत कौन से लाभ मिलने वाले हैं?Also Read - Digital India: भारत को डिजिटल बनाने में मदद करने के लिए गूगल ने शुरू की नई पहल

जानें क्या है e-RUPI?
आज लॉन्च होने वाले डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI की बात करें तो यह एक कैशलेस और कॉन्टेक्टलेस पेमेंट का तरीका है. यह QR code या SMS स्ट्रिंग बेस्ड ई-वाउचर है जिसमें लाभार्थियों के मोबाइल पर एक QR code या SMS भेजा जाएगा. उसके माध्यम से पेमेंट की जाएगी. इस वन टाइम पेमेंट मैकेनिज्म में यूजर्स को वाउचर रिडीम करने के लिए किसी कार्ड, डिजिटल पेमेंट ऐम या इंटरनेट बैंकिंग को एक्सेस करने की जरूरत नहीं होगी. Also Read - Digital Payment: वित्तमंत्री ने डिजिटल भुगतान क्रांति को उजागर करने के लिए वीडियो शेयर किया

कहां कर सकेंगे e-RUPI का इस्तेमाल
e-RUPI लॉन्च से पहले ही चर्चा में बना हुआ है और लोगों के मन में सबसे बड़ा सवाल है कि इस डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन का इस्तेमाल कहां किया जा सकता है. तो बता दें कि सामने आई रिपोर्ट के अनुसार e-RUPI सर्विस का उपयोग मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं के तहत दवा और न्यूट्रीशनल सपोर्ट उपलब्ध कराने वाली स्कीम्स, टीबी उन्मूलन और आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अलावा निजी क्षेत्र के कर्मचारी भी इस पेमेंट सॉल्यूशन का इस्तेमाल कर सकते हैं. Also Read - UPI Transaction: यूपीआई लेन-देन अक्टूबर में पहली बार 100 बिलियन डॉलर के पार

नहीं होगी किसी मध्यस्थ की जरूरत
e-RUPI को लेकर सामने आई जानकारी के अनुसार इस पेमेंट प्लेटफॉर्म के लिए आपको मध्यस्थ की जरूरत नहीं होगी. e-RUPI बिना किसी फिजिकल इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सर्विस प्रोवइर्स को स्पॉन्सर्स के साथ जोड़ता है. साथ ही यह भी सुनिश्चित करता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सर्विस प्रोवाइडर को पेमेंट किया जाए.