PUBG Addiction: भारत में PUBG से जुड़ा एक बिल्कुल नया मामला सामने आया है, जहां हैदराबाद स्थित एक युवक की कथित तौर पर PUBG गेम खेलते समय स्ट्रोक पड़ गया। News Minute की रिपोर्ट के मुताबिक, युवक को तुरंत हस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां वह अब खतरे से बाहर बताया जा रहा है। डॉक्टर का कहना है कि 19 साल के इस युवक को यह स्ट्रोक हद से ज्यादा PUBG गेम खेलने के कारण पड़ा है। कुछ दिन पहले सेकंड ईयर में पड़ रहे इस छात्र ने अपना दायां हाथ और पैर ना हिला पाने की शिकायत की, जिसके बाद उसे तुरंत ICU में भर्ती कराया गया। इसके बाद डॉक्टर ने अंदाजा लगया कि उसे ब्रेन स्ट्रोक पड़ा है। इसके पीछे का कारण उस छात्र के दिमाग में खून के क्लॉट (thrombi) जमने को बताया जा रहा है।

यह पहला हादसा नहीं है, जिसके पीछे PUBG गेम को दोषी बताया जा रहा है। हाल ही में हरियाणा के जींद में हरियाणा पुलिस में ASI के ओहदे पर काम कर रहे एक व्यक्ति के 17 वर्षीय बेटे ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों के अनुसार, मृतक पिछले एक वर्ष से मोबाइल पर PUBG Mobile खेल रहा था और घरवालों द्वारा मना करने के कारण उसने आत्महत्या की है। पुलिस ने बताया कि 17 वर्षीय युलक दसवीं तक पढ़ाई करने के बाद घर पर ही रहता था। वह पिछले एक वर्ष से अपना अधिकतर समय मोबाइल (PUBG Mobile Addiction) के साथ ही बिताता था।

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर जिले में मोबाइल फोन पर ऑनलाइन गेम PUBG खेलते समय एक 19 वर्षीय युवक की मौत हो गई। पुलिस के अनुसार युवक अपने दोस्त के घर गया हुआ था और रात भर वह गेम खेल रहा था। असीम नाम के इस युवक के दोस्त का परिवार सुबह नाश्ते के लिए उसका इंतजार कर रहा था, लेकिन वह रात के बीच गेम खेलते समय कथित तौर पर बेहोश हो गया था।

सूत्रों ने कहा, “उसे नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।” रिपोर्ट के मुताबिक पबजी खेलने में मस्त इस युवक ने उस रात भी खाना ठीक से नहीं खाया था, और देर रात तक वह गेम खेल रहा था। इस तरह की कई घटनाएं सामने आई हैं, जिसके कारण दुनिया भर में कई देशों ने इसे बैन कर दिया है और कुछ देशों में माता-पिता अभी भी इस गेम को बैन करने के लिए सरकार और कोर्ट से गुहार लगा रहे हैं।