PUBG Mobile हर दिन चीटर्स और हैकर्स पर बैन लगाता है। इस गेम को डेवलप करने वाली कंपनी Tencent Games बैन किए गए प्लेयर्स की लिस्ट भी हर हफ्ते अपडेट कर शेयर करता है। हैकिंग और चीटिंग टूल्स यूज करने वाले प्लेयर्स को 10 साल तक के लिए बैन कर दिया जाता है। कंपनी ने अब एक नया ट्वीट किया है, जिसमें कंपनी ने बैन के बारे में जानकारी दी है।

कंपनी की वेबसाइट पर पोस्ट किए ब्लाग में कंपनी ने 27 नवंबर की एक स्टेटमेंट रिलीज की है, जिसमें कंपनी ने बताया है कि चीटर्स को लगातार बैन किया जा रहा है। नोटिस से पता चलता है डेवलपर्स चीटिंग को लेकर काफी गंभीर है।

बता दें कि सबसे ज्यादा प्लेयर्स जिनको बैन किया गया है वह एशियाई देशों के है। कंपनी ने प्लेयर्स को बैन करने के लिए जो रीजन दिए हैं उनमें मॉडिफिकेशन ऑफ एरिया डैमेज, मॉडिफिकेशन ऑफ जंप डिस्टेंस , मॉडिफिकेशन ऑफ जंप हाईट, मॉडिफिकेशन ऑफ रनटाइम गेम डाटा, मॉडिफिकेशन ऑफ द कैरेक्टर मॉडल, मॉडिफिकेशन ऑफ रिकॉइल, यूसेज ऑफ वर्चुअल एप्स जैसे कई कारण दिए गए हैं।

जिन लोगों को कंपनी ने बैन किया है वह अगले 10 साल तक इस आईडी के जरिए गेम नहीं खेल पाएंगे। इससे पता चलता है कि कंपनी गेम में चीटर्स को लेकर कितना एक्टिव है और वह कितनी तेजी से चीटर्स को बैन कर रही है। कंपनी ने इसको लेकर ट्टिट भी किया गया है। PUBG Mobile के लिए शुरुआत से ही चीटर्स एक बड़ी समस्या रहे हैं। ये चीटर्स एक खास सॉफ्टवेयर की मदद से गेम में एडवांटेज लेने की कोशिश करते हैं। इन चीटर्स और हैकर्स को गेम खेलने के दौरान एडवांटेज मिलता है।