PUBG Mobile गेम के डेवलपर ने प्लेयर्स के लिए बैन को लेकर एक पत्र लिखा है। इस लेटर में डेवलपर्स ने अपने फैन्स को हैकिंग और बैन को लेकर जानकारियां दी है और कुछ प्रश्नों के जवाब दिया है। डेवलपर्स के द्वारा कई ऐसे प्रश्नों का जवाब भी दिया गया है, जो केवल अफवाहें हैं। डेवलपर्स का कहना है कि हम अपने चीट और हैकिंग डिटेक्शन सिस्टम में लगातार सुधार कर रहे हैं। कंपनी का कहना है कि सिस्टम में सुधार करने से चीटिंग और हैकिंग करने वाले प्लेयर्स को पकड़ पाना और बैन करना आसान हो गया है।

डेवलपर्स का कहना है कि हम प्लेयर्स को आश्वस्त करते हैं कि हम सभी इमानदार प्लेयर्स को अच्छा और साफ सुथरा गेमिंग एक्सपीरिएंस देने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। कंपनी ने हैकिंग और बैन को लेकर फैली कई अफवाहों की हकीकत भी सबके सामने रखी है।

इनमें से एक अफवाह है कि गेम कंपनी को पैसे देने वाले हैकर्स और चीटर्स को कंपनी बैन नहीं करती है। PUBG Mobile की टीम का कहना है कि यह सरासर गलत धारणा है। कंपनी चीटिंग और हैकिंग को लेकर काफी गंभीर है और कंपनी ने गेम में सबसे ज्यादा पैसा लगाने वाले प्लेयर्स को भी बैन किया हुआ है।

अगली गलत धारणा यह है कि VIP हैक इस्तेमाल करने वाला प्लेयर्स कभी पकड़ा नहीं जाता है। इसपर टीम का कहना है कि ऐसा कोई भी चीट अभी तक नहीं बन पाया है, जिसे पकड़ा ना जा सके। कंपनी ने इस हैकिंग से पैसा कमाने की बात पर भी साफ कर दिया है कि उनके लिए चीटिंग को पूरी तरह से खत्म करने का उद्देश्य सबसे बड़ा है। कंपनी ने इस तरह की कई गलत धारणाओं का जवाब दिया है।

कंपनी का कहना है कि उनके पास हैकिंग और चीटिंग को रोकने के लिए बेहतरीन गेम सिक्योरिटी टीम है। यह टीम गेम में हैकर्स और चीटर्स को ढूंढने के लिए लगातार मॉनिटरिंग करती रहती है और शक होने पर प्लेयर्स को बैन कर दिया जाता है। इसके अलावा सिक्योरिटी टीम प्लेयर्स के खिलाफ आने वाली हैकिंग रिपोर्ट्स को भी अच्छे से रिव्यू करती है और दोषी साबित होने पर प्लेयर को बैन कर दिया जाता है। इस पूरे लेटर को आप यहां पढ़ सकते हैं।