PUBG Mobile में चीटिंग करने वाले खिलाड़ियों की एक नई लिस्ट जारी की गई है। यह लिस्ट कंपनी ने 3 दिसंबर 2019 को जारी की है जिसमें गेम में चीटिंग करने वाले प्लेयर्स को 10 साल तक के लिए बैन कर दिया गया है। इन सभी को कंपनी ने 10 साल के लिए बैन कर दिया है। इसका मतलब है कि ये प्लेयर्स अगले 10 साल तक इस आईडी के जरिए गेम नहीं खेल पाएंगे। बता दें कि सबसे ज्यादा प्लेयर्स जिनको बैन किया गया है वह एशियाई देशों के है। कंपनी ने प्लेयर्स को बैन करने के लिए जो रीजन दिए हैं उनमें मॉडिफिकेशन ऑफ एरिया डैमेज, मॉडिफिकेशन ऑफ जंप डिस्टेंस , मॉडिफिकेशन ऑफ जंप हाईट, मॉडिफिकेशन ऑफ रनटाइम गेम डाटा, मॉडिफिकेशन ऑफ द कैरेक्टर मॉडल, मॉडिफिकेशन ऑफ रिकॉइल, यूसेज ऑफ वर्चुअल एप्स जैसे कई कारण दिए गए हैं।
कंपनी ने इसको लेकर ट्टिट भी किया गया है। भारत समेत दुनियाभर में यह गेम काफी पॉप्युलर है। हालांकि कंपनी लगातार गेम में चीटर्स और हैकर्स को बैन करके उनकी नई लिस्ट को जारी करती रहती है। इससे पता चलता है कि कंपनी गेम में चीटर्स को लेकर कितना एक्टिव है और वह कितनी तेजी से चीटर्स को बैन कर रही है।

PUBG Mobile के लिए शुरुआत से ही चीटर्स एक बड़ी समस्या रहे हैं। ये चीटर्स एक खास सॉफ्टवेयर की मदद से गेम में एडवांटेज लेने की कोशिश करते हैं। इन चीटर्स और हैकर्स को गेम खेलने के दौरान एडवांटेज मिलता है। जिन लोगों को कंपनी ने बैन किया है वह अगले 10 साल तक इस आईडी के जरिए गेम नहीं खेल पाएंगे।

हाल ही में PUBG Corp ने एक वीडियो भी रिलीज की थी, जिसमें PUBG एंटी-चीट टीम कैसे काम करती है इस बारे में बताया गया है। ऊपर शेयर की गई वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे PUBG/PUBG Mobile टीम मिल कर गेम में होने वाली सभी घटनाओं की जानकारी रखती है और इन प्लेयर स्टैट्स के जरिए चीटर्स को बैन करती है।