भारत में करीब 88 प्रतिशत ग्राहक ऑनलाइन पेमेंट के लिए मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं। पेपाल और आईपीएसओएस की एक ज्वाइंट रिपोर्ट में कहा गया है कि बिल भुगतान और फैशन दो ऐसे प्रमुख क्षेत्र हैं, जहां एप के माध्यम से खरीदारी होती है और आधे से अधिक ऑनलाइन बिक्री यहीं से होती है।
इसमें आगे कहा गया है कि लगभग 51 प्रतिशत ऑनलाइन बिक्री की मात्रा इन खरीदारी एप के माध्यम से होती है। यह रिपोर्ट 23 जुलाई और 25 अगस्त 2019 को हुए वैश्विक सर्वे का एक हिस्सा है।

‘पेपाल द आईपीएसओएस एमकॉमर्स रिपोर्ट’ में यह भी कहा गया कि 88 प्रतिशत भारतीय ग्राहक ऑनलाइन पेमेंट के लिए मोबाइल का प्रयोग करते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 81 प्रतिशत व्यापारी वैश्विक औसत 63 प्रतिशत व्यापारियों के मुकाबले बढ़ती मांग और उपभोक्ता की प्राथमिकताओं का जवाब देने के लिए मोबाइल भुगतान स्वीकार करने के लिए अनुकूलित हैं। इससे पहले आपको बता दें कि पेमेंट कंपनियों ने भी अपने प्लेटफॉर्म को हिंदी में कर दिया है, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी पहुंच बनाई जा सके। देश की सबसे बड़ी ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम भी हिंदी भाषा में भी उपलब्ध है। आप हिंदी भाषा में भी पेटीएम का इस्तेमाल कर सकते हैं।

अभी तक यह इंग्लिश लैंग्वेज में ही उपलब्ध था, लेकिन अब आप इसे हिंदी समेत 10 भाषाओं में इस्तेमाल कर सकते हैं। पेटीएम ने जिन भाषाओं को जोड़ा है उनमें हिंदी के अलावा बांग्ला, तेलगु, मराठी, तमिल, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, पंजाबी और उड़िया जैसी भाषाएं शामिल हैं।
पेटीएम भारत में ई-कॉमर्स कंपनी के तौर पर काम करता है। इसके अलावा पेमेंट के लिए अब यह एक बड़ा वॉलेट बन चुका है। डेली लाइफ में लोग अब इस ऐप के जरिए दूसरे लोगों को पेमेंट करना पसंद कर रहे हैं। दुकानों में पेमेंट करने के लिए यह एक बेहतर मीडियम बन गया है, और बड़े से लेकर छोटे दुकानदार भी इस पेमेंट ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं।