क्या आपको पता है दुनिया की एक चौथाई से आबादी गेमिंग इंडस्ट्री से ताल्लुक रखती है. इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस एंड फाइनेंस (Indian School of Business & Finance) के आईटी विभाग के प्रोफेसर डा. यावर एहसान के अनुसार गेम्स खेलने और लोगों की गेम्स के प्रति पैशन की वजह से अमेरिका को हर साल 20 बिलियन डॉलर की सालाना कमाई होती है. यह फिल्म जगत से हो रही कमाई से ढाई गुना ज्यादा है. अधिकांश गेमिंग उद्योग प्रौद्योगिकी के साथ ही आगे बढ़े हैं. गेमिंग उद्योग में विकास अभूतपूर्व रहा है। गेमिंग उद्योग का डाटा साइंस के साथ काफी बड़ा सौदा है जो इस गेम्स के उत्साह को बनाए रखने में मदद करता है और इसे बढ़ावा दे रहा है.

डॉ. एहसान के अनुसार, गेम यूजर्स को पता भी नहीं होता कि वो जितनी बार गेम खेलते हैं उतनी ही बार वो डाटा जनरेट करते हैं. एक गेम को बनाने में बहुत सारे एलगोरिदम्स का इस्तेमाल किया जाता है. इसकी सहायता से खिलाड़ी के हर चाल और क्लिक की जानकारी जुटाई जाती है कि खिलाड़ी की अगली चाल क्या होगी. निर्माता अब इस बात को बेहतर तरीके से समझ चुके हैं कि गेम यूजर्स के खेलने का तरीका क्या है. वो यह अच्छी तरह समझते हैं कि खिलाड़ी कैसे खेलेंगे, दूसरे खिलाड़ियों से वो किस तरह बात करेंगे, उन्हें क्या पसंद है क्या नहीं.