नई दिल्ली: व्हाट्सएप ने अपने प्लेटफॉर्म के दुरूपयोग को रोकने के  लिए आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अपने व्हाट्सएप के जरिए फर्जी खबरों के प्रसार को रोकने के लिए रेडियो के बाद अब टेलीविजन पर भी विज्ञापन प्रसारित करने का निर्णय लिया है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि उसने भारत में अपने उपयोगकर्ताओं के ऊपर सघन शोध किया और फिर उनके अनुभवों के आधार पर तीन टीवी विज्ञापन तैयार किए हैं जिनका मकसद फेक ख़बरों पर अंकुश लगाना है.

2020 तक गूगल बंद कर सकता है हैंगआउट, ओलो और डुओ को बढ़ाने की रणनीति!

9 भाषाओं में प्रसारित होगा विज्ञापन
कंपनी ने इस बाबत जानकारी देते हुए बताया कि, ‘तीनों विज्ञापन टेलीविजन, फेसबुक और यू-ट्यूब पर नौ भाषाओं में उपलब्ध होंगे तथा इनकी व्हाट्सएप के उपयोक्ताओं के बीच व्यापक पहुंच होगी. इनका प्रसारण राजस्थान और तेलंगाना में चुनाव से पहले ही शुरू हो जाएगा. ये विज्ञापन अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, कन्नड़, तेलुगु, असमिया, गुजराती, मराठी और मलयालम में उपलब्ध होंगे. ये 60 सेकंड लंबी फिल्म के रूप में होंगे. कंपनी ने कहा कि इन विज्ञापनों को खबरिया और सिनेमाई चैनलों के साथ कई चैनलों पर प्रसारित किया जाएगा.

Facebook पर Video शेयर करने वालों के लिए कमाई का शानदार आईडिया, लॉन्च हुआ नया टूल

कंपनी का कहना है कि बाद में इन विज्ञापनों को ऑनलाइन और प्रिंट के विज्ञापन के जरिए भी प्रसारित किया जाएगा. कंपनी ने फर्जी खबरों पर लगाम कसने के लिए अगस्त में रेडियो के जरिए मुहिम की शुरुआत की थी. कंपनी को फर्जी खबरों को लेकर सरकार के कड़े रुख का सामना करना पड़ा है. हालांकि  सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप इन कवायदों से फर्जी ख़बरों की रोकथाम किस हद तक कर पायेगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा लेकिन हां जागरूकता बढ़ने से कुछ लगाम तो जरूर लगेगी. (इनपुट एजेंसी)