दूरसंचार क्षेत्र नियामक ट्राई ने मौजूदा दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों और नयी कंपनी रिलायंस जियो से पॉइंट ऑफ इंटरकनेक्ट (PoA) के विवाद को लेकर कहा है कि कंपनियां इस तरह के मुद्दे को आपस में सुलझाए। Also Read - Lockdown: ट्राई का दूरसंचार कंपनियों को निर्देश, लॉकडाउन में बढ़ाई जाए प्लान वैधता

ट्राई ने इससे पहले इस संबंध में एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेल्युलर पर 3050 करोड़ रुपये जुर्माना लगाए जाने की सिफारिश की है। यह भी पढ़ें: कॉल-ड्रॉप मामले में ग्राहकों को बड़ा झटका, टेलीकॉम कंपनियों को राहत Also Read - SC ने AGR बकाये का स्व-मूल्यांकन करने पर केंद्र और टेलिकॉम कंपनियों को लगाई फटकार

जानकारी के मुताबिक भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) के अध्यक्ष आर. एस. शर्मा ने मंगलवार को इस संबंध में दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों के साथ करीब दो घंटे लंबी बैठक की। Also Read - बड़ी दूरसंचार कंपनियों के लिये एजीआर बकाये का मूल्यांकन इस सप्ताह हो सकता है शुरू

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ट्राई अध्यक्ष ने कंपनियों से कहा है कि वह जल्द से जल्द इस मुद्दे को आपस में सुलझा लें और साथ ही उन्हें चेतावनी भी दी कि यदि सेवा के मानकों का उल्लंघन किया गया तो उन पर कार्रवाई भी की जा सकती है।

पॉइंट ऑफ इंटरकनेक्ट यानी कि POA एक ऐसी तकनीक है जिसके माध्यम से दो अलग-अलग नेटवर्कों के कॉल (जैसे आईडिया- वोडाफोन या रिलायंस-एयरटेल) आपस में जुड़ते हैं।