नई दिल्ली: फर्जी खातों द्वारा प्लेटफॉर्म के हेरफेर को रोकने के अपने प्रयासों के तहत टि्वटर ने 2018 की दूसरी छमाही में सत्यापन के लिए 19.35 करोड़ खातों को चुनौती दी, जो पिछले साल की पहली छमाही से 17 प्रतिशत कम है. माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट की एक पारदर्शिता रिपोर्ट के अनुसार यह जानकारी दी गई है.

क्या कोई मानव किसी खाते के नियंत्रण में है, इस बात की पुष्टि करने के लिए टि्वटर  ‘एंटी-स्पैम चैलेंज’ का उपयोग कर रहा है. इस प्रक्रिया में टि्वटर को फोन नंबर या ईमेल पते को सत्यापित करने और रिकैपचा को पूरा करने के लिए खाताधारक की जरूरत हो सकती है.

प्रामाणिक खाता स्वामियों के लिए ये चुनौतियां सरल हैं, लेकिन स्पैम या दुर्भावनापूर्ण खाता-स्वामियों के लिए यह कठिन (या महंगी) हो सकती हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे खाते जो एक समय की निर्धारित अवधि के भीतर चुनौती को पूरा करने में विफल रहते हैं, उन्हें निलंबित किया जा सकता है. टि्वटर ने कहा कि उसने विशेष रूप से छह महीने की अवधि के दौरान साइन-अप पर नकली खातों का पता लगाने पर ध्यान केंद्रित किया है.