नई दिल्ली: कुछ दिन पहले ही व्हाट्सएप मैसेज के कारण मॉब लिंचिग की घटनाओं पर सरकार ने सख्ती दिखाई थी. अब फेक न्यूज से निपटने के लिए व्हाट्सएप ने बड़ा कदम उठाया है. व्हाट्सएप ने कहा है कि अब भारत में उसके यूजर्स एक दिन में पांच से ज्यादा मैसेज फॉरवर्ड नहीं कर पाएंगे. इसके लिए व्हाट्सएप अपने प्लैटफॉर्म पर एक नए फीचर की टेस्टिंग कर रहा है ताकि स्पैम और फर्जी खबरों पर लगाम लगाई जा सके. Also Read - लिंचिंग के विरोध पर FIR: थरूर ने PM मोदी को लिखा पत्र, कहा- 'मौन की बात' में न बदल जाए 'मन की बात'

भारत में व्हाट्सएप एक बार में 5 चैट्स के लिए लिमिट टेस्ट करेगा और इसके बाद क्विक फॉरवर्ड बटन के जरिए इन्हें हटाया जा सकेगा. यह बटन मीडिया मेसेज के पास बना होगा. इसका मतलब है कि अगर एक मैसेज को 5 बार एक ही अकाउंट से फॉरवर्ड किया गया है और इसके बाद लिमिट क्रॉस होने पर वॉट्सऐप पर उस मेसेज को फॉरवर्ड करने का ऑप्शन डिसेबल हो जाएगा. Also Read - मॉब लिंचिंग को लेकर पीएम मोदी को लिखे गए पत्र के मामले में बेनेगल ने दागा सवाल, कहा-हमारा पत्र महज अपील था, तो यह FIR क्यों  

एक ब्लॉग पोस्ट में, व्हाट्सएप ने नोट किया कि भारत में लोग किसी अन्य देश की तुलना में अधिक संदेश, फोटो और वीडियो फॉरवर्ड करते हैं. फेसबुक की स्वामित्व वाली कंपनी  व्हाट्सएप के ग्लोबली एक बिलियन यूजर्स हैं, जिनमें से केवल अकेले भारत में 200 मिलियन से अधिक यूजर्स हैं. व्हाट्सएप ग्रुप्स के जरिए नफरत भरा कॉन्टेन्ट और अफवाहें फैलाने के चलते देश के कई हिस्सों में लोगों को घेरकर मारने की घटनाएं सामने आई हैं. Also Read - मॉब लिंचिंग पर शशि थरूर बोले- हत्या करने वाले कर रहे हिंदू धर्म का अपमान, क्या चुनावी जीत से मिला मारने का अधिकार?

इससे पहले व्हाट्सएप ने अखबारों में ऐड जारी कर लोगों को जागरूक किया था. मंगलवार को देश के प्रमुख अखबारों में दिए विज्ञापन मेंं व्हाट्सएप में फर्जी संदेश से बचने के 10 टिप्स दिए थे. कंपनी ने कहा था कि इससे लड़ने के लिए टेक्नोलाॅजी कंपनियों, सरकार और समाज को साथ में काम करना होगा और लोगों को इसके बारे में जागरूक करना होगा. बता दें कि केंद्र सरकार ने कंपनी को फर्जी मैसेज पर लगाम लगाने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए थे.