WhatsApp’s new privacy policy, DuckDuckGo Search: मैसेजिंग ऐप व्हाट्स ऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर दुनिया भर के यूजर्स में संदेह पैदा हो गया है. तमाम यूजर्स अब अपनी डाटा सुरक्षा को लेकर सचेत हो गए हैं. यूजर्स न केवल व्हाट्स ऐप बल्कि अपनी वेब डाटा को लेकर भी चिंतित हो गए हैं. वेब डाटा सुरक्षा एक अहम मुद्दा है. ऐसे में लोग सुरक्षित सर्च इंजन की तलाश कर रहे हैं. Also Read - Social Media, Digital Media, OTT के लिए गाइडलाइंस जारी, 10 प्वाइंट्स में जानिए अहम बातें

एक ऐसा ही सर्च इंजन है DuckDuckGo.इस सर्च इंजन को गूगल सर्च का कंप्टीटर माना जाता है. DuckDuckGo का कहना है कि पिछले कुछ समय से उसे काफी ज्यादा सर्च किया जा रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 11 जनवरी को DuckDuckGo पर 102.2 मिलियन सर्च आए, जबकि एक जनवरी को इस पर 77.1 मिलियन सर्च आए थे. इस तरह एक दिन में 100 मिलियन से अधिक सर्च आने लगे हैं. Also Read - What is Sandes app and How to Download: भारत सरकार लेकर आई WhatsApp का विकल्प! जानिए Sandes app से जुड़े अपने हर सवाल का जवाब

सच्चाई ये है कि डाटा सुरक्षा को लेकर लोगों के सचेत होने की वजह से DuckDuckGo की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है. बीते साल यानी 2020 में इस पर सर्च में 62 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. बीते साल इस पर 24 बिलियन सर्च हुए. Also Read - Google Meet, Classroom and Chrome New Features: मीट, क्लासरूम और क्रोम ओएस में ये धमाकेदार फीचर्स लेकर आ रहा है गूगल, स्टूडेंट्स के लिए जानना जरूरी

रिपोर्ट में DuckDuckGo के वाइस प्रेसिडेंट Kamyl Bazbaz का कहना है कि हमारे पास यूजर्स आ रहे हैं क्योंकि वे ज्यादा प्राइवेसी चाहते हैं. हम अपने यूजर्स की प्राइवेसी बनाए रखते हैं. इस सच्चाई के बारे में जानकारी एक-दूसरे से ही लोगों के बीच जाती हैं. उनका कहना है कि लोग सर्विलांस-टेक बिजनेस मॉलड तलाश रहे हैं.

DuckDuckGo की खासियतें

DuckDuckGo की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह कोई यूजर्स डाटा ट्रैक नहीं करता है. यह डाटा किसी थर्ड पार्टी को शेयर भी नहीं करता है. दूसरी तरफ गूगल हमेशा से पर्सनल इंफॉर्मेशन और डाटा इकट्ठा करते रहा है. वह ऐसा यूजर्स की सहमति के बिना करता है. इन डाटा का इस्तेमाल ऑनलाइल ऐड के लिए किया जाता है.

DuckDuckGo पर डेली सर्च काफी तेजी से बढ़ रहा है लेकिन ऑनलाइन सर्च मार्केट में यह अब भी एक छोटा प्लेयर है. एक रिपोर्ट के मुताबिक गूगल के पास दिसबंर 2020 में 91.3 फीसदी मार्केट शेयर था, जबकि DuckDuckGo की बाजार हिस्सेदारी केवल 0.6 फीसदी है.