ट्विटर ने कैलीफोर्निया की सीनेटर और डेमोक्रेट पार्टी में राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस से कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का अकांउट बंद नहीं किया जाएगा। कमला हैरिस को भेजे गए एक पत्र में ट्विटर ने उनके अनुरोध को मानने से इनकार कर दिया है। हैरिस की यह मांग इस वजह से थी क्योंकि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति संग उनकी संदेहात्मक बातचीत को उजागर करने के चलते मुखबिरों, सांसदों और सियासी विरोधियों पर हमला बोलने के लिए इसी सोशल मीडिया साइट यानी ट्विटर का इस्तेमाल किया था।

कमला हैरिस के अभियान ने बुधवार को सीएनएन को बताया, “ट्विटर उनके मंच पर ट्रंप द्वारा लोगों को धमकाने और हिंसक व्यवहार करने के लिए उकसाने का उन्हें जिम्मेदार नहीं मान रहा है।” ट्विटर ने हैरिस को एक पत्र में लिखा, “हम हां या ना में निर्णय लेने में सक्षम नहीं है, क्योंकि यह इतना आसान नहीं है। हमने उन ट्वीट्स की समीक्षा की जिसका जिक्र आपने पत्र में किया था, वे अपमानजनक व्यवहार, लक्षित उत्पीड़न या हिंसा से संबंधित हमारी नीतियों के खिलाफ नहीं है।”

ट्रम्प अक्सर ही अपने राजनीतिक विरोधियों पर हमला बोलने के ट्विटर का इस्तेमाल करते रहते हैं। ऐसे में विवादास्पद ट्वीट्स पोस्ट करने के चलते ट्विटर पर ट्रम्प के खिलाफ कदम उठाने का दवाब है, लेकिन इस सोशल नेटवर्किं ग साइट ने अब तक ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है।

ट्विटर ने इससे पहले कहा था कि विश्व के नेता उनकी अपनी नीतियों से ऊपर नहीं है, ऐसे में ट्विटर ने मंगलवार को इन नेताओं के ट्वीट्स को रोकने की बात कही थी जो नियमों का उल्लंघन करते हैं, हालांकि इसने यह स्पष्ट नहीं किया कि वह ट्रम्प जैसे नेता जो ऐसा करते हैं, उन्हें ब्लॉक करेंगे भी या नहीं। कंपनी ने कहा, “आप ऐसे ट्वीट पर लाइक, रिप्लाई, शेयर या रीट्वीट नहीं कर पाएंगे। फिर भी आप अपने विचारों को कमेंट के साथ रीट्वीट कर व्यक्त कर पाएंगे।”