नई दिल्ली: स्मार्टफोन निर्माता श्याओमी ने अपने रिटेल स्टोर्स पर साइन बोर्ड और अपने लोगो को ‘मेड इन इंडिया’ लोगो से कवर करना (ढकना) शुरू कर दिया है. भारत व चीन के बीच चल रहे गतिरोध और इसके बाद लोगों के बीच चीन विरोधी भावना जागृत होने के बाद कंपनी ने अपने मोबाइल स्टोर्स के बाहर आधिकारिक लोगो को सफेद रंग के मेड इंन इंडिया लोगो से ढकना शुरू किया है. ऑल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन (एआईएमआरए) ने गुरुवार को यह जानकारी दी. Also Read - अब जरूरत है कि देश में ऐसे प्रोडक्‍ट बनें जो मेड इन इंडिया हों, मेड फॉर वर्ल्‍ड हों: PM मोदी

एआईएमआरए की ओर से चाइनीज स्मार्टफोन कंपनियों को एक पत्र लिखकर कहा गया है कि उनकी दुकानों और उत्पादों को मिल रहीं धमकियों के चलते उन्हें अपनी ब्रैंडिंग छुपानी या हटानी पड़ेगी. इसके बाद ही कंपनी ने इस दिशा में कदम उठाना शुरू कर दिया है. लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद आम भारतीय लोगों में चीन विरोधी भावना भड़क उठी है. Also Read - 'मुझे टीम इंडिया में नहीं लेंगे चयनकर्ता क्योंकि उन्हें लगता है कि मैं बूढ़ा हूं'

एआईएमआरए के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंदर खुराना ने गुरुवार को कहा, “एमआई (श्याओमी) ने अपने बोर्ड पर सफेद रंग के ‘मेड इन इंडिया’ बैनर लगाने शुरू कर दिए हैं.” संपर्क करने पर श्याओमी ने आधिकारिक तौर पर इस मुद्दे पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. Also Read - आकाश चोपड़ा ने ऑल टाइम मुंबई इंडियंस XI टीम में कप्तान के तौर पर सचिन की जगह रोहित शर्मा को दी तरजीह

अपने पत्र में एआईएमआरए ने तमाम चीनी मोबाइल फोन ब्रांड से अनुरोध किया है कि वे खुदरा विक्रेताओं को कपड़े/फ्लेक्स के साथ इन संकेतों को कवर करने या कुछ महीनों के लिए स्टोर के सामने से बोर्ड हटाने को कहें. मोबाइल खुदरा विक्रेताओं के संघ ने बताया कि असामाजिक तत्वों ने हाल ही में मुंबई, आगरा, जबलपुर और पटना में कई बाजारों में स्थित चीनी ब्रांडों के संकेतकों को नुकसान पहुंचाया है.

खुराना ने कहा, हमने अपने सदस्यों और उनके स्टोर की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पत्र भेजा है. हमने बाजारों में कुछ आक्रामकता देखी है. खुराना ने कहा कि कुछ संगठनों ने खुदरा विक्रेताओं को अपने स्टोर से चीनी ब्रांडिंग को हटाने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है. उन्होंने कहा, हमें लग रहा है कि अगर आक्रामकता बढ़ती है तो आने वाले समय में यह एक खतरा हो सकता है. हम खुदरा विक्रेताओं की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं. अगर दुकानों में आग लग जाती है या दुकानों का सामान चोरी हो जाता है या फिर खुदरा विक्रेताओं को चोट पहुंचती है, तो फिर क्या होगा? एआईएमआरए ने कहा कि उसने ओप्पो, वीवो, वनप्लस, मोटोरोला, रियलमी, लेनेवो और हुआवे सहित सभी चीनी ब्रांडों को स्टोर के सामने से बोर्ड हटाने का अनुरोध किया है.