हैदराबाद: के. चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली. राव का यह दूसरा कार्यकाल है. उनकी अगुवाई में हाल में हुए विधानसभा चुनावों में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने भारी बहुमत से जीत दर्ज की.Also Read - Telangana CM पर BJP सांसद का पलटवार, जब गीदड़ की मौत आती है तो वो शहर की तरफ भागता है

Also Read - यदि बीजेपी नेता अभद्र भाषा का इस्तेमाल करेंगे तो उनकी जीभ काट देंगे: तेलंगाना के सीएम कहा

राज्यपाल ई.एस.एल नरसिम्हन ने राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह में राव को दोपहर 1.25 बजे पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. तेलंगाना विधान परिषद के सदस्य मोहम्मद महमूद अली ने भी मंत्री के रूप में शपथ ली. अली पिछली कैबिनेट में उपमुख्यमंत्री थे. उनके इस पद पर फिर से काबिज होने की संभावना है. केसीआर ने तेलुगू में शपथ ली, जबकि अली ने उर्दू में औपचारिकताएं पूरी की. Also Read - Financial Assistance for Private Teachers: तेलंगाना सरकार का बड़ा फैसला, निजी शिक्षण संस्थानों के शिक्षकों, कर्मचारियों को हर महीने मिलेगा 2000 रुपये, 25 Kg चावल

टीआरएस नेताओं ने 64 वर्षीय नेता के शपथ ग्रहण करने पर ‘केसीआर जिंदाबाद’ और ‘जय तेलंगाना’ के नारे लगाए. केसीआर के अगले सप्ताह अपने कैबिनेट का विस्तार करने की संभावना है. टीआरएस ने 119 सदस्यीय विधानसभा में 88 सीटें जीतकर राज्‍य में अपनी सत्ता बरकरार रखी.

Assemby elections results 2018: ये रहे फाइनल आंकड़े, जानिए किस दल को कितनी सीटें मिलीं

केसीआर की पत्नी शोभा राव, बेटे लालकृष्ण टी. रामा राव, बेटी के. कविता, भतीजे टी. हरीश राव और अन्य पारिवारिक सदस्य शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए. शपथ ग्रहण करने के बाद पुजारियों के एक समूह ने केसीआर को आशीर्वाद दिया और उन्हें ‘प्रसाद’ दिया.

मिलिए तेलंगाना के इकलौते BJP विधायक राजा सिंह लोध से, कभी पार्टी से दे दिया था इस्तीफा

केसीआर ने दो जून, 2014 को तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. उस दिन तेलंगाना भारत के 29वें राज्य के रूप में अस्तित्व में आया था. टीआरएस के नवनिर्वाचित विधायक, पार्टी के शीर्ष नेता, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी, मुख्य सचिव एस.के. जोशी, पुलिस महानिदेशक महेंद्र रेड्डी और वरिष्ठ अधिकारीगण भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए.