लखनऊ: केन्द्र सरकार की अति महत्वपूर्ण योजना डिजिटल इंडिया का ‘लोगो’ बनाकर और प्रधानमंत्री के वाइस मैसेज का दुरूपयोग करते हुए फर्जी वेबसाइट बना हजारों लोगों से 11 करोड़ से अधिक की धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर एसटीएफ ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. Also Read - यूपी: युवती पर बना रहा था धर्म परिवर्तन का दबाव, ग‍िरफ्तार आरोपी पहुंचा जेल की सलाखों के पीछे

Also Read - UP Legislative Council की 11 सीटों पर मतगणना जारी, जल्‍द आएंगे परिणाम

  Also Read - 7th pay commission Latest Updates : केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी, बढ़ने वाली है सैलरी, जानिए कितनी

उत्‍तर प्रदेश एसटीएफ की ओर से जारी बयान के मुताबिक ई-ग्राम डिजिटल की फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह के सरगना एवं कम्पनी के मालिक और निदेशक सुधांशु शुक्ला को लखनऊ से गिरफ्तार किया है. वह प्रतापगढ़ का रहने वाला है. उसके पास से मोबाइल फोन और फर्जी वेबसाइट से सम्बन्धित विभिन्न दस्तावेज बरामद हुए हैं. एसटीएफ के प्रवक्ता ने यहां बताया कि धोखे के शिकार कई लोगों ने प्रधानमंत्री कार्यालय को शिकायती पत्र भेजा था.

बड़ी वारदात से पहले UP ATS – वेस्ट बंगाल पुलिस का छापा, 2 बांग्लादेशी आतंकी नोएडा में गिरफ्तार

उत्‍तर प्रदेश एसटीएफ ने की जांच

पत्र में कहा गया था कि कुछ अज्ञात व्यक्ति डिजिटल इण्डिया परियोजना के तहत चल रहे विभिन्न कार्यक्रमों के नाम पर फर्जी वेबसाइट बना कर लोगों से ठगी कर रहे हैं. इस शिकायत के आधार पर इसकी जांच की जिम्मेदारी उत्‍तर प्रदेश एसटीएफ को दी गयी. जांच में पाया गया कि कुछ व्यक्तियों के द्वारा गिरोह बनाकर एक फर्जी वेबसाइट बनाई गयी है, जिसमें केन्द्र सरकार की अति महत्वपूर्ण योजना डिजिटल इंडिया का लोगो और प्रधानमंत्री का वीडियो मैसेज हम बिना किसी अनुमति के अपलोड किया गया है.

UP: सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं, डिजिटल आर्मी हो रही है तैयार

वेबसाइट को स्विटजरलैंड के एक वेब सरवर पर होस्ट किया

इस वेबसाइट को स्विटजरलैंड के एक वेब सरवर पर होस्ट किया गया हैं, जिसमें मालिक का पता अंकित नही है और सम्पर्क के लिए विदेशी नम्बर दिया गया है. वेबसाइट पर कई सरकारी विभागों के हाईपरलिंक भी उपलब्ध कराये गये है ताकि जनता को विश्वास हो जाये कि यह डिजिटल प्रोग्राम का हिस्सा है. एसटीएफ की टीम ने सरगना सुधांशु को आज लखनऊ के गोमतीनगर से गिरफ्तार किया गया. इससे पूछताछ कर गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी हासिल की जा रही है.